Nagpur High Court

    नागपुर. मेयो अस्पताल के सामने स्थित बजरिया के भोईपुरा में सड़कों पर ही मछली बाजार लगने से कई तरह की समस्याएं उत्पन्न हुई हैं. इसलिए इसे स्थानांतरित करने की मांग को लेकर भोई समाज पंच कमेटी के पूर्व सचिव रोहित गौर की ओर से हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर की गई.

    याचिका पर बुधवार को सुनवाई के दौरान मछली के थोक विक्रेताओं की ओर से अतिरिक्त जानकारी रखने के उद्देश्य से अर्जी दायर करने समय देने का अनुरोध अदालत से किया गया. इस पर न्यायाधीश सुनील शुक्रे और न्यायाधीश अनिल पानसरे ने 2 सप्ताह का समय प्रदान कर सुनवाई स्थगित कर दी. याचिकाकर्ता की ओर से अधि. शेजल, व्यापारियों की ओर से अधि. पी.वी. ठाकरे और मनपा की ओर से अधि. सुधीर पुराणिक ने पैरवी की. 

    थोक विक्रेताओं के लिए 4 कमरे

    मनपा ने अदालत को बताया गया कि योजना के अनुसार इस स्वतंत्र मछली बाजार में चिल्लर विक्रेताओं के लिए 108 ओटे तैयार किए गए हैं. इसके अलावा थोक विक्रेताओं के लिए भी 4 कमरे तैयार किए गए. चूंकि परंपरागत व्यापार के अनुसार सड़कों के किनारे ही खरीदीदारों को मछली उपलब्ध कराने और इसी से अच्छा व्यापार होने की संभावना जताते हुए मछली व्यापारी स्वतंत्र मार्केट के भीतर जाने के लिए तैयार नहीं हैं.

    यहां तक कि मार्केट में हर तरह की सुविधा उपलब्ध कराई गई है. गत समय अदालत ने भोईपुरा में सड़कों पर बैठने वाले मछली व्यापारियों पर कार्रवाई करने के आदेश दिए थे. साथ ही मंगलवारी बाजार स्थित मार्केट में उन्हें कैसी व्यवस्था चाहिए, इसका सुझाव मनपा को देने की हिदायत भी दी थी. हाई कोर्ट के आदेशों के अनुसार थोक विक्रेताओं ने मनपा को आवेदन किया था किंतु अब तक कोई निर्णय नहीं किया गया. 

    3 करोड़ खर्च कर बनाया मछली मार्केट

    याचिकाकर्ता ने याचिका में बताया कि परिसर में अनेक वर्षों से सड़कों पर ही मछली बाजार लग जाता है जिससे न केवल आवागमन बाधित होता है, बल्कि मछली की दुर्गंध के कारण परिसर की जनता का स्वास्थ्य भी खतरे में पड़ गया है जिसकी वजह से लोगों में इसे लेकर काफी रोष है. इसे स्थानांतरित करने के लिए कई बार मांग की गई किंतु मछली बाजार स्थानांतरित नहीं किया गया.

    यहां के विक्रेताओं के पास स्ट्रीट वेंडर्स एक्ट 2014 के प्रावधानों के अनुसार लाइसेंस तक नहीं है जिससे इस संदर्भ में मनपा को आदेश देने का अनुरोध भी किया गया. सुनवाई के दौरान मनपा की ओर से बताया गया कि सदर स्थित मंगलवारी बाजार परिसर में 3 करोड़ खर्च कर स्वतंत्र मछली बाजार का निर्माण किया गया है.