rahul gandhi
File Pic

    कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन के आर्थिक पैकेज को ‘ढकोसला’ बताया है. उन्होंने कहा कि आर्थिक पैकेज को कोई परिवार अपने रहने-खाने, दवा, बच्चे की स्कूल फीस पर खर्च नहीं कर सकता. इससे किसी का भला नहीं होगा.  कांग्रेस ने कहा कि कोरोना को प्राकृतिक आपदा घोषित करने से मोदी सरकार को किसने रोका था, जबकि अमेरिका ने इसे प्राकृतिक आपदा घोषित कर लोगों को सीधी मदद पहुंचाई है.

    केंद्र कोरोना पीड़ितों के परिजनों को आर्थिक मुआवजा देने से कतरा रहा है. हमारा आर्थिक संकट निम्न जीडीपी, घटती मांग, भारी महंगाई तथा बेरोजगारी की उच्च दर की वजह से है. इतने पर भी वित्तमंत्री के पैकेज में इन 4 बुनियादी मुद्दों का कोई समाधान नहीं दिया गया है. वित्त मंत्री उपभोग और खर्च बढ़ाने के लिए प्रत्यक्ष नकद हस्तांतरण करने में विफल रहीं. मांग तभी बढ़ेगी जब जनता के हाथों में पैसा आएगा. राहत के रूप में और अधिक कर्ज देना बेमतलब है. सरकार वही गलती कर रही है जो उसने 2020 में की थी. तब सरकार ने 20 लाख करोड़ रुपए का पैकेज देने का दावा किया था जबकि अधिकांश आर्थिक विशेषज्ञों की राय में यह पैकेज सिर्फ 2 लाख करोड़ का था.