इतनी जल्दी कैसे बन गई रूसी वैक्सीन संदेह के घेरे में

समूचे विश्व में रूस के इस दावे को लेकर संदेह व्यक्त किया जा रहा है कि उसने विश्व के सारे देशों को पछाड़कर सबसे पहले कोरोना वायरस की वैक्सीन बना ली है और उसे रजिस्टर्ड भी करवा लिया है. इसे रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय और रेगुलेटरी बॉडी की मंजूरी भी मिल गई है. रूस ने यह भी दावा किया कि सितंबर से इस वैक्सीन का प्रोडक्शन होने लगेगा और अक्टूबर से इसके टीके लोगों को लगाने की तैयारी है. राष्ट्रपति पुतिन ने दावा किया कि उन्होंने सबसे पहले अपनी बेटी को यह वैक्सीन लगवाई है. रूस के इस दावे पर सभी को संदेह है. विशेषज्ञों ने सवाल उठाए हैं कि किसी वैक्सीन को बनाने में कई वर्ष और दशक लग जाते हैं लेकिन रूस इतनी जल्दी वैक्सीन लांच करने की स्थिति में कैसे आ गया? रूस के इंस्टीट्यूट ने अब तक दूसरे और तीसरे चरण के ट्रायल के आंकड़े सार्वजनिक नहीं किए हैं.

ये दोनों फेज तय करते हैं कि वैक्सीन कितनी असरदार और सुरक्षित है. फेज-1 खत्म हुए अभी एक महीने से ज्यादा नहीं हुआ है. कम से कम स्वेच्छा से प्रयोग के इच्छुक 30,000 वालंटियर्स पर ट्रायल होना चाहिए किंतु ऐसे किसी ट्रायल की जानकारी नहीं है. किसी को वैक्सीन लगाने से पहले उसकी टेस्टिंग की जाती है. क्या रूस के वैज्ञानिकों ने ऐसा किया है? यह भी कहा जा रहा है कि रूस शीतयुद्ध के जमाने के पुराने ढर्रे पर चल रहा है. तब वह अमेरिका के साथ मिसाइल व एटॉमिक हथियारों की होड़ में लगा रहता था. स्पेस में भी दोनों के बीच जबरदस्त स्पर्धा बनी रही. अब वह कोरोना के खिलाफ वैक्सीन बनाने के मामले में भी वैसे ही तेवर दिखा रहा है. दूसरी ओर यह भी विचार व्यक्त किया जा रहा है कि हो सकता है रूस का दावा सही हो. रूस के रक्षा मंत्रालय के मुताबिक कोरोना की वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल में शत-प्रतिशत सफल रही है. जिन वालंटियर्स को वैक्सीन दी गई, उनमें वायरस इम्युनिटी विकसित हुई है. यह दावा किया गया कि किसी भी वालंटियर में निगेटिव साइड इफेक्ट देखने को नहीं मिले. जिन लोगों पर वैक्सीन ट्रायल किया गया उनमें बेहतर इम्युनिटी विकसित होने के प्रमाण मिले हैं. अब प्रश्न उठता है कि क्या सचमुच रूस ने कोरोना वैक्सीन ईजाद करने में बाजी मार ली अथवा वह बढ़-चढ़कर दावा कर रहा है? क्या इतने कम समय में ऐसा करना किसी भी देश के लिए संभव है? वैसे रूस ने कहा है कि इसी माह इस वैक्सीन के 3 और ट्रायल होंगे.