file
file

    • 13 दिनों तक अंधेरे थे ग्रामीण, ट्रान्सफार्मर पहुंचने से जागी थी उम्मीदे
    • -सोमनुर गांव का मामला

    सिरोंचा. सिरोंचा तहसील मुख्यालय से 40 किमी दुरी पर स्थित सोमनुर गांव का बिजली ट्रान्सफार्मर जलने के कारण इस गांव के करीब 400 लोग पिछले 13 दिनों से अंधेरे में थे. ऐसे में ग्रामीणों के प्रयास के बाद बुधवार को गांव में बिजली विभाग ने नया बिजली ट्रान्सफार्मर भिजवाया.

    गांव में ट्रान्सफार्मर पहुंचते ही पिछले 13 दिनों से अंधेरे में जीवनयापन करनेवाले ग्रामीणों ने उजियाले की उम्मीद लगाए थे. लेकिन नया बिजली ट्रान्सफार्मर फिट करते ही जल गया. जिसके कारण यह दिवाली उजियाले में मनाने की ग्रामीणों की आशा निराशा में बदल गयी. वहीं बिजली विभागी कार्यप्रणाली पर तीव्र नाराजगी व्यक्त की जा रही है. साथ ही तत्काल बिजली आपुर्ति शुरू करने की मांग ग्रामीणों ने की है.

    ग्रामीणों ने चंदा जमा कर वाहन उपलब्ध कराया

    गांव का बिजली ट्रान्सफार्मर जलने के बाद ग्रामीणों ने इस मामले की ओर शिवसेना के पदाधिकारियों का ध्यानाकर्षण कराया. वहीं शिवसेना के पदाधिकारियों ने भी मामले को गंभीरता से लेते हुए दो दिनों में नया बिजली ट्रान्सफार्मर न लगाने पर तीव्र आंदोलन करने की चेतावनी बिजली विभाग को दी थी.

    आखिरकार बिजली विभाग ने नया बिजली ट्रान्सफार्मर उपलब्ध कराया. लेकिन उक्त ट्रान्सफार्मर सोमनुर गांव तक ले जाने के लिये वाहन नहीं मिलने के कारण ग्रामीणों ने चंदे के राशि से करीब 5 हजार रूपये इकट्टे किए. और ट्रान्सफार्मर लाने के लिये वाहन उपलब्ध कराया. लेकिन नया ट्रान्सफार्मर फिट करते ही जल जाने से ग्रामीणों के किए कराए पर पानी फेर गया है.

    शिवसैनिकों ने दी आंदोलन की चेतावनी

    इधर इस मामले को लेकर शिवसेना के पदाधिकारी भी आक्रमक हो गये है. पिछले 13 दिनों से सोमनुरवासी अंधेरे में होने के बावजूद भी उन्हें घटिया दर्जे का बिजली ट्रान्सफार्मर भिजवाया गया, जो फिट करते ही जल गया. जिससे बिजली विभाग की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए आगामी दो दिनों में नयो बिजली ट्रान्सफार्मर फिट नहीं करने पर शिवसेना तीव्र आंदोलन करेगी, ऐसी चेतावनी शिवसेना के जिला संपर्कप्रमुख किशोर पोतदार , सहसपंपर्क प्रमुख विलास कोडाप, जिलाप्रमुख रियाज शेख, तहसील प्रमुख टी. अमितकुमार ने दी है.