रजनीकांत राजनीति में नहीं आने पर अडिग

दक्षिण भारतीय फिल्मों के सुपर स्टार रजनीकांत (Tamil Superstar Rajinikanth) के चुनावी राजनीति (Politics) से दूर रहने के निर्णय से बीजेपी( BJP) की योजनाओं को धक्का लगा है जो रजनीकांत को समर्थन देकर अपने सहयोगी दल एआईएडीएमके पर दबाव बनाना चाहती थी. अब बीजेपी तमिलनाडु में सत्तारूढ़ पार्टी से मनचाही सौदेबाजी नहीं कर पाएगी और उसे पूरी तरह एआईएडीएमके को बड़े भाई के रूप में समर्थन जारी रखना पड़ेगा.

तमिलनाडु के वरिष्ठ बीजेपी नेता सीटी रवि ने कहा कि गठबंधन में अकेली सबसे बड़ी पार्टी एआईएडीएमके (AIADMK) को अपना मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार चुनने का पूरा हक है. रजनीकांत का किडनी प्रत्यारोपण हो चुका है और उन्होंने चुनावी भागदौड़ में सक्रियता दिखाने से पहले ही मना कर दिया है. उन्होंने अपने समर्थकों से कहा कि मुझ पर सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव डालना बंद करें. तमिलनाडु की द्रविड़ राजनीति में रजनीकांत की पार्टी के रूप में एक और शक्ति केंद्र बन जाने की बीजेपी की उम्मीदों पर पानी फिर गया है. रजनीकांत ने इस बात पर भी नाराजगी जताई कि कुछ समर्थकों ने उनके फैन क्लब रजनी मक्कल मंदरम (आरएमएम) (Rajini Makkal Mandram)(RMM)से निष्कासित किए गए लोगों के साथ हाथ मिला लिए हैं. रजनीकांत ने पूर्व घोषणानुसार 31 दिसंबर को अपनी नई पार्टी भी घोषित नहीं की.