ब्रायन लारा (Photo Credits-Windies Cricket Facebook)
ब्रायन लारा (Photo Credits-Windies Cricket Facebook)

    -विनय कुमार 

    वेस्ट इंडीज के पूर्व कप्तान उर महान बल्लेबाज ब्रायन लारा ,(Brian Lara) की गिनती दुनिया के ‘ऑल टाइम ग्रेट क्रिकेटर्स’ (All Time Best Cricketers) में की जाती है। टेस्ट क्रिकेट की एक पारी में सबसे ज्यादा 400 रन बनाने का रिकॉर्ड (400 runs in a test inning) आज भी उनके नाम दर्ज है, इस कीर्तिमान को आज तक कोई भी सूरमा तोड़ नहीं पाया। इस महान खिलाड़ी की जिंदगी में एक ऐसा पल भी आया था जब उन्हें बेइज्जती का सामना करना पड़ा था। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू से पहले जिल्लत सहनी पड़ी थी। ब्रायन लारा (Brian Lara) ने एक इंटरव्यू में खुद अपनी जिंदगी के इस छुपे पहलू का खुलासा किया था।

    गौरतलब है कि, लारा ने दिसंबर 1990 में लाहौर में खेले गए पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट मैच (West Indies vs Pakistan Test Match Brian Lara) से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया था। हालांकि, पाकिस्तान से पहले 1989 में वेस्ट इंडीज ने अपने डोमेस्टिक ग्राउंड पर भारत के खिलाफ टेस्ट सीरीज (West Indies vs India) खेली थी। उस टेस्ट सीरीज के लिए ब्रायन लारा को वेस्टइंडीज टीम में शामिल ज़रूर किया गया था, लेकिन उन्हें उस मैच में ‘प्लेइंग इलेवन’ (Playing Eleven) में जगह नहीं मिल पाई थी। हां, ये जरूर था कि, टीम में चुने जाने की वजह से उन्हें वेस्ट इंडीज़ की नेशनल टीम के साथ ड्रेसिंग रूम शेयर करने का मौका मिल गया था। उस वक्त वेस्ट इंडीज की टीम में गॉर्डन ग्रीनिज, डेसमंड हेंस(Desmond Hynes) और मैल्कम मार्शल (Malcolm Marshall) समेत कई दिग्गज खिलाड़ी शामिल थे। उस वक्त ब्रायन लारा उस 19 साल के ही थे। 

    लारा ने अपने इंटरव्यू में बताया, “वह मैच मेरे होम ग्राउंड यानी त्रिनिदाद (Trinidad Lara) में खेला जाना था। उस मैच में वेस्ट इंडीज के कप्तान विवियन रिचर्ड्स (Vivian Richards) थे। मेरा पहला टेस्ट त्रिनिदाद में था। मुझे ‘प्लेइंग इलेवन’ (Playing Eleven) में शामिल नहीं किया गया था। लेकिन, मेरा पहला टेस्ट मैच मेरे होम ग्राउंड पर था। मुझे 9:00 बजे मैदान पर आने का निर्देश मिला था। मुझे बोला गया था कि टीम वहीं मिलेगी।”

    लारा ने आगे बताया, “मैं सुबह 8 बजे ही स्टेडियम (Trinidad Cricket Stadium) पहुंच गया। मैं ड्रेसिंग रूम गया और एक चेयर पर अपना किटबैग रख दिया। उसके बाद मैं अपना बैट लेकर मैदान में आ गया। मेरे साथ मेरा भाई भी था। वह मुझे बॉलिंग (Lara’s brother bowling) करने लगा। थोड़ी देर बाद मुझे लगा कि ये सही वक्त है जब मुझे टीम (West Indies Test Team) से जाकर मिलना चाहिए।”

    ब्रायन लारा ने बताया, “मैं ग्राउंड से ड्रेसिंग रूम की तरफ चलने लगा। जब मैं ड्रेसिंग रूम की तरफ जा रहा था, तभी मैंने देखा कि मेरा किट बैग (Lara’s Kit bag) ड्रेसिंग रूम के बाहर पड़ा है। मैंने सोचा आखिर मुझसे क्या गलती हो गई ? इसके बाद मैंने अपना किट बैग उठाया और ड्रेसिंग रूम में झांका। दरअसल, जिस चेयर पर मैंने अपना किट बैग रखा था, वह विवियन रिचर्ड्स (Vivian Richards) की चेयर थी। वे उसी पर बैठते थे। और, अपना किट बैग भी वहीं रखते थे।”

    क्रिकेट की दुनिया के महान बल्लेबाज ब्रायन लारा (Brian Lara) के साथ हुई इस घटना के बारे में टीम इंडिया के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने एक इंस्टाग्राम लाइव चैट के दौरान भारत के ‘हिटमैन’ रोहित शर्मा (Rohit Sharma) को भी बताया था। लारा ने अपने उस इंटरव्यू के दौरान यह भी कहा था कि बचपन से उनके आदर्श रिचर्ड्स (Vivian Richards) थे, जिन्होंने उन्हें क्रिकेट खेलने के लिए प्रेरित (inspire) किया।