आईओए में मतभेद जारी: इस बार वेबसाइट पर अधिकारियों की सूची बनी तकरार का कारण

नई दिल्ली. भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा ने सोमवार को महासचिव राजीव मेहता को आईओए वेबसाइट पर एसोसिएट सदस्यों के नामों को बहाल करने को कहा। एक अधिकारी ने अपना नाम हटाए जाने की शिकायत की थी। आईओए वेबसाइट पर नौ उपाध्यक्षों, छह संयुक्त सचिवों और 10 कार्यकारी सदस्यों के नाम दर्ज हैं। बत्रा ने मेहता को कार्यकारी परिषद में शामिल एसोसिएट सदस्यों के नाम भी वेबसाइट पर दोबारा डालने को कहा है। एसोसिएट सदस्यों की भूमिका सीमित होती है क्योंकि वे किसी मुद्दे पर कार्यकारी परिषद की बैठक में सर्वसम्मति नहीं होने की स्थिति में मतदान नहीं कर सकते। बत्रा ने मेहता को लिखे ईमेल में कहा, ‘‘मैं आपके साथ सहदेव यादव का पत्र साझा कर दिया हूं जो आईओए वेबसाइट से सभी एसोसिएट उपाध्यक्षों, एसोसिएट संयुक्त सचिवों और एसोसिएट कार्यकारी परिषद के सदस्यों के नाम हटाए जाने से संबंधित है।

” उन्होंने कहा, ‘‘अगर यह गलती से हुआ है तो आग्रह है कि कार्यकारी परिषद के एसोसिएट वर्ग के नाम दोबारा आईओए वेबसाइट पर डाले जाएं।” बत्रा ने कहा, ‘‘अगर यह आपके एकतरफा निर्देशों के तहत हटाए गए हैं तो मैं आपसे आग्रह करता हूं और सलाह देता हूं कि इन्हें आईओए वेबसाइट पर प्राथमिकता के आधार पर डाला जाए।” मेहता ने हालांकि कहा है कि यादव के साथ बातचीत के बाद यह मामला सुलझा लिया गया है और एसोसिएट सदस्यों के नाम आधिकारिक वेबसाइट के एक अन्य वर्ग में उपलब्ध कराए गए हैं। उन्होंने कहा, ‘‘एसोसिएट सदस्यों की सूची वेबसाइट के अलग वर्ग में डाल गई है। मैं सहदेव यादव के साथ चीजों को स्पष्ट कर चुका हूं जिन्होंने यह मुद्दा उठाया था।” मेहता ने कहा, ‘‘आईओए के संविधान के अनुसार सिर्फ निर्वाचित सदस्यों के नाम कार्यकारी परिषद के वर्ग में दिए गए हैं।” आईओए के शीर्ष अधिकारियों के बीच पिछले कुछ समय से मतभेद चल रहे हैं। इसकी शुरुआत तब हुई जब बत्रा ने मेहता से कहा था कि ‘उनका बोझ कम करने के लिए’ वह उनसे कुछ जिम्मेदारियां लेना चाहते हैं।(एजेंसी)