Share the trophy when the match is tied, there is no need for a super over in ODIs: Taylor

नई दिल्ली. न्यूजीलैंड के सीनियर बल्लेबाज रोस टेलर ने कहा है कि 50 ओवरों के विश्व कप में मैच टाई होने पर ट्राफी टीमों के बीच साझा कर देनी चाहिए क्योंकि उनका मानना है कि एकदिवसीय प्रारूप में सुपर ओवर जरूरी नहीं है। पिछले साल इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच मैच टाई छूटने और उसके बाद सुपर ओवर के भी बराबर रहने पर ‘बाउंड्री की गिनती’ से इंग्लैंड को विजेता घोषित कर दिया गया था। इस नियम के लिये अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की कड़ी आलोचना हुई थी। इसके बाद आईसीसी को नियम में बदलाव करना पड़ा जिसके बाद सेमीफाइनल और फाइनल में विजेता निर्धारित करने के लिये लगातार सुपर ओवर खेले जाने का प्रावधान है। लेकिन टेलर को लगता है कि मैच टाई होने पर ट्राफी साझा कर देनी चाहिए।

टेलर ने ईएसपीएनक्रिकइन्फो से कहा, ‘‘मैं एकदिवसीय मैचों में सुपर ओवर को लेकर अब भी दुविधा में हूं। मुझे लगता है कि एकदिवसीय मैच लंबे समय तक खेला जाता है और मुझे टाई मैच को टाई के रूप में ही समाप्त करने में कोई दिक्कत नहीं है।” उन्होंने कहा, ‘‘टी20 में मैच आगे जारी रखना सही है जैसे कि फुटबाल या अन्य खेलों में होता है ताकि विजेता का निर्धारण किया जा सके लेकिन मुझे नहीं लगता कि एकदिवसीय मैचों में सुपर ओपर जरूरी है। मेरा मानना है कि संयुक्त विजेता हो सकता है। ”

टेलर ने कहा, ‘‘विश्व कप के दौरान मैं असल में अंपायरों के पास गया और मैंने कहा कि मैच अच्छा था। मुझे नहीं पता था कि सुपर ओवर भी होगा। मैच टाई छूटा है तो उसे टाई ही रहना चाहिए। मेरा मनना है कि वनडे में आपको 100 ओवर खेलने होते हैं और अगर तब भी कोई अंत में बराबरी पर रहता है तो फिर मुझे लगता है कि टाई बुरा परिणाम नहीं है। ” न्यूजीलैंड का सुपर ओवर में रिकार्ड अच्छा नहीं रहा है। उसने सभी प्रारूपों में इस तरह के आठ से सात अवसरों पर मैच गंवाया।(एजेंसी)