Deepika Kumari
File Photo

    नई दिल्ली. सभी तीरंदाज प्रतियोगिता में परफेक्ट 10 के स्कोर पर निशाना साधने के लिए ट्रेनिंग करते हैं और आगामी टोक्यो ओलंपिक में वे चाहे जितने भी बार ‘बुल्स आइ’ (परफेक्ट 10) निशाना लगाएं उन्हें युमेनोशिमा पार्क पर हर बार तीर छोड़ने के बाद ‘टेन’ (10) ही सुनाई देगा। प्रत्येक तीरंदाज का लक्ष्य अधिक से अधिक बार 10 अंक जुटाना होता है। 

    जापानी भाषा में हालांकि अंक को ‘टेन’ कहते हैं और ऐसे में तीरंदाज चाहे कितने भी अंक जुटाएं उन्हें आखिर में यह ‘जादुई अंक’ सुनने को मिलेगा। प्रत्येक तीर चलाने के बाद अंक की घोषणा की जाती है। तीरंदाजी में अंक की घोषणा करने वाले अधिकतर समय अंग्रेजी में ‘अंक’ (प्वाइंट) शब्द नहीं बोलते लेकिन जापानी में अलग अलग अंकों का उच्चारण समान लगता है और ऐसे में प्रतियोगिता के दौरान ‘टेन’ का इस्तेमाल करना लगभग अनिवार्य है।

    जापानी भाषा में ‘10′ को ‘जू’ जबकि नौ को ‘क्यू’ और आठ को ‘हाची’ बोलते हैं। ये भले ही अजीब लगे लेकिन 70 मीटर रेंज पर रिकर्व प्रतियोगिता के दौरान अंकों की घोषणा करते हुए 10 के लिए ‘जू टेन’, नौ के लिए ‘क्यू टेन’ और आठ के लिए ‘हाची टेन’ बोला जाएगा। (एजेंसी)