babar-humazi

    नयी दिल्ली.  पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के कप्तान बाबर आजम (Babar Azam) ने बीते शुक्रवार को बताया कि उनके खिलाफ लगे तमाम यौन शोषण (Sexual Harressment) के आरोपों का असर उनके क्रिकेट पर नहीं पड़ा है। उन्होंने आगे यह भी कहा कि वह खिलाड़ी हैं और उन्हें इस तरह की बाधाओं का सामना करने की उनकी पुरानी आदत है।

    गौरतलब है कि बाबर आजम साउथ अफ्रीका और जिम्बाब्वे के दौरों पर क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में ही पाकिस्तानी टीम की कप्तानी करेंगे। बता दें कि 26 वर्षीय बाबर शुक्रवार को वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन पर लगे यौन शोषण के आरोपों के बारे में जवाब दे रहे थे। 

    क्या कहते है बाबर:

    यौन शोषण के आरोपों को ज्यादा तवज्जो न देते हुए पाकिस्तानी कप्तान ने मीडिया को कहा कि, “यह एक निजी बात है और मामल कोर्ट में है। मेरे वकील फिलहाल इसे देख रहे हैं। हमें जीवन में कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है और मैं तो अब इसका आदी हूं। इस मामले ने मेरे क्रिकेट पर कोई असर नहीं डाला है।”

    क्या है मामला:

    आपको बता दें कि एक महिला हमाजी मुख्तार (Hamazi Mukhtar) ने पाकिस्तानी कप्तान पर यौन शोषण के संगीन आरोप लगाए हैं। यही नहीं महिला का यह भी दावा है कि बाबर ने उन्हें डराया-धमकाया और शादी के बड़े झूठे वादे किए थे। हमिजा ने यह आरोप भी लगाया कि उन्हें विभिन्न नंबरों से वाट्सएप पर लगातार धमकी भरे संदेश मिल रहे हैं तथा एक अज्ञात व्यक्ति उन्हें ब्लैकमेल कर रहा है कि उसके पास उनकी आपत्तिजनक तस्वीरें और वीडियो हैं। वह इन्हें सोशल मीडिया पर अपलोड करने की धमकी दे रहा है। हमिजा ने इससे पहले बाबर के खिलाफ शारीरिक उत्पीड़न और यौन उत्पीड़न के आरोप भी लगाये थे।

    उधर बीते गुरुवार को ही लाहौर की एक अदालत ने पाकिस्तान की केंद्रीय जांच एजेंसी को बाबर आजम के खिलाफ ब्लैकमेल और शोषण का मामल दर्ज करने (FIR) का एक आदेश भी दिया है।