चेतेश्वर पुजारा की बुराई करने वालों को सचिन तेंडुलकर का तमाचा, गिल और रोहित को दिए टिप्स

    -विनय कुमार 

    दुनिया के महान बल्लेबाज सचिन तेंडुलकर (Sachin Tendulkar) का मानना ​​है कि चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) की बल्लेबाजी की स्टाइल भारतीय टीम की सफलता का महत्वपूर्ण हिस्सा है। ऐसे लोग जो पुजारा की आलोचना करते हैं, उन्होंने उनके समान भारत के लिए उपलब्धियां हासिल नहीं की हैं। ऑस्ट्रेलिया के हालिया दौरे (IND vs AUS 2020-21) में दमदार कोशिशों के बावजूद पुजारा को अक्सर आलोचकों का सामना करना पड़ता है कि वह स्कोरबोर्ड में रनों की गति को बनाए रखने के लिए जज्बा नहीं दिखाते हैं।

    भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और दुनिया के महानतम बल्लेबाजों में से एक सचिन तेंडुलकर ने एक न्यूज़ एजेंसी से अपनी खास बातचीत में कहा कि पुजारा को लेकर यह सोच गलत है।इसके साथ ही उन्होंने इंग्लैंड के साउथम्प्टन के एजेस बाउल स्टेडियम (Ageas Bowl Stadium England) में 18 जून से भारत के न्यूजीलैंड के खिलाफ ‘आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल’ (WTC FINAL) से जुड़े कई मुद्दों पर बात की। तेंडुलकर ने कहा, “मुझे लगता है कि चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) ने भारत के लिए जो हासिल किया है, उसकी हमें तारीफ करनी चाहिए। यह हमेशा स्ट्राइक-रेट के बारे में नहीं होता है। टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) में आपको अपनी टीम में फिट होने के लिए अलग तरह की योजना और विभिन्न प्रकार के खिलाड़ियों की आवश्यकता होती है।”

    उन्होंने कहा, “यह आपके हाथों की पांच उंगलियों की तरह है। हर उंगली की अलग भूमिका होती है। पुजारा हमारी टीम का अभिन्न हिस्सा हैं। पुजारा (Cheteshwar Pujara) ने भारत के लिए जो किया वह मुझे बहुत पसंद है। उसकी हर पारी (Test innings) को परखने की बजाय, उसने भारत के लिए जो किया है, हमें उसकी तारीफ करनी चाहिए।”

    ‘God of Cricket’ ने आगे कहा, “जो लोग उसकी तकनीक और रन बनाने की काबिलियत पर सवाल उठाते हैं, मुझे नहीं लगता कि उन लोगों ने पुजारा (Pujara) जैसे शीर्ष स्तर (Top Class Cricket) की क्रिकेट खेली है।” 

    सचिन तेंडुलकर को लगता है कि T20 की वजह से लोगों का नजरिया बदल गया है। T20 में सिर्फ एक ही स्किल की तारीफ की जाती है। वह है गेंद को मैदान से बाहर भेजने की।मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर ने कटाक्ष भरे लहजे में कहा, “आज के T20 के दौर में अगर कोई बॉल को हिट कर सकता है, तो उसे एक अच्छा खिलाड़ी (Batsman) माना जाता है। पर, यह जरूरी नहीं है कि वह (बड़ा शॉट मारने वाला) एक अच्छा टेस्ट खिलाड़ी हो। टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) में आपको बॉल हिट करने और बड़े शॉट खेलने की कोशिश से ज्यादा हुनर की जरूरत होती है।”

    जो लोग टेस्ट क्रिकेट में स्ट्राइक रेट को लेकर खिलाड़ियों की आलोचना में जुट जाते हैं, इनपर निशाना साधते हुए सचिन ने कहा कि टीम इंडिया के पास आक्रामक अंदाज में बल्लेबाजी करने वाले कई खिलाड़ी हैं। उन्होंने कहा, “स्ट्राइक रेट के लिए हमारे पास ऋषभ पंत (Rishabh Pant) और रविंद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) जैसे खिलाड़ी हैं। वे कभी भी स्ट्राइक रेट बढ़ा सकते हैं। लेकिन जब विरोधी टीम (opposition team) को थकाने की बात आती है, तो वहां आपको अपनी रणनीति को लागू करने और दूरदर्शिता की आवश्यकता होती है। ऐसे में आपको एक चेतेश्वर (Cheteshwar Pujara) की जरूरत होती है।”

    ‘वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल’ (WTC FINAL 2021) के लिए टीम कॉम्बिनेशन के बारे में पूछे जाने पर सचिन ने कहा कि साउथम्प्टन (Southampton) में पिच से ज्यादा मदद नहीं मिलने पर भी रविचंद्रन अश्विन ,(Ravichandran Ashwin) और जडेजा (Ravindra Jadeja) दोनों प्रभावी हो सकते हैं। मेरा मानना है कि संभावना 3 तेज गेंदबाज और 2 स्पिनर्स के खेलने की है, क्योंकि दोनों (Ravichandran Ashwin and Ravindra Jadeja) बल्लेबाजी भी कर सकते हैं। आखिर में टीम के संयोजन का फैसला विकेट (पिच) को देखकर  करना होगा।”

    जब तेंडुलकर से पूछा गया कि, अगर मैच के चौथे और पांचवें दिन स्पिनर्स को पिच से ज्यादा मदद नहीं मिली तो क्या होगा ? इस सवाल के जवाब में सचिन ने कहा, ‘”विकेट से मदद नहीं मिलने पर भी शेन वार्न (Shane Warne) और मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) सीधी गेंदों से कई विकेट चटकाते थे। ऐसे में सीधी गेंद भी एक ऑप्शन है।” तेंडुलकर ने कहा कि सीधी गेंद से भी बल्लेबाल भ्रमित(confuse) होते हैं। क्योंकि, ऐसी गेंदों को बल्लेबाज हमेशा स्पिन गेंद खेलने की कोशिश में दुविधा में रहते हैं।

    क्रिकेट का इतिहास बताता है कि, इंटरनेशनल क्रिकेट में 34,000 से ज्यादा रन बनाने वाले दुनिया के कालजयी महान बल्लेबाज सचिन तेंडुलकर का मानना है कि अश्विन (Ravichandran Ashwin) और जडेजा (Ravindra Jadeja) दोनों को इंग्लैंड की ठंडी आबो-हवा का फायदा उठाना चाहिए। उन्होंने कहा, “इंग्लैंड में स्पिनर (spinner) हवा से भी मदद हासिल कर सकता है। अगर गेंद की चमक बनी रही तो वह दोनों तरफ घूम सकती है।”

    सचिन ने टीम इंडिया के विस्फोटक सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ,(Rohit Sharma) और शुभमन गिल (Shubman Gill) को भी अपने अनमोल सुझाव दिए। उन्होंने कहा, “दोनों को बल्ले को अपने शरीर के करीब (bat near to body) रख कर खेलना होगा। शॉट खेलने के लिए बल्ला (bat) उठाते समय आपके हाथों को आपके शरीर के जितना संभव हो पाए, उतना नजदीक होना चाहिए।”

    मास्टर ब्लास्टर ने कहा कि ‘ICC WORLD TEST CHAMPIONSHIP FINAL’  की दोनों टीमों की गेंदबाजी में एक जैसी मजबूती है। लेकिन, इंग्लैंड में WTC FINAL से पहले 2 टेस्ट मैच की सीरीज (New Zealand vs England Test Series 2021) खेलने के कारण न्यूजीलैंड की टीम बेहतर स्थिति में होगी।

    उन्होंने कहा, “न्यूजीलैंड (NZ) की गेंदबाजी में विविधता (variations) है। टिम साउदी (Tim Southee) दाएं हाथ के बल्लेबाजों से गेंद को बाहर की तरफ निकालते हैं। वहीं ट्रेंट बोल्ट (Trent Boult) गेंद को अंदर की तरफ लाते हैं। काइल जैमीसन (Kyle Jamieson) तेजी से टप्पा खेलाते हैं, तो नील वेगनर (Neil Wagner) शॉर्ट पिच गेंदों का बेहतरीन इस्तेमाल करते हैं।”