ओलंपिक मुक्केबाजी के पहले दौर में हार के साथ आशीष का सफर खत्म

    टोक्यो. ओलंपिक में पदार्पण करने वाले भारतीय मुक्केबाज आशीष चौधरी (75 किग्रा) को चीन के एरबीके तुओहेता के खिलाफ पहले दौर के मुकाबले में लचर शुरुआत का खामियाजा भुगतना पड़ा और हार के साथ ही उनका सफर खत्म हो गया।

    एशियाई चैम्पियनशिप में रजत पदक जीतने वाले 27 साल के इस खिलाड़ी ने शुरुआती चरण के बाद लय पकड़ी लेकिन यह उन्हें 0-5 की हार से बचने के लिए काफी नहीं था। हिमाचल प्रदेश के इस मुक्केबाज को चीन के खिलाड़ी ने पहले चरण में ही अपने मुक्कों के शानदार इस्तेमाल से पछाड़ दिया और उन्हें जजों के सर्वसम्मत फैसले से जीत दर्ज करने में ज्यादा परेशानी नहीं हुई। आशीष ने दूसरे चरण में वापसी की कोशिश में अधिक हमले किये लेकिन चीन का मुक्केबाज ज्यादातर मौके पर उन्हें चकमा देने में सफल रहा।  

    भारतीय मुक्केबाजी के हाई परफोर्मेंस निदेशक सेंटियागो नीवा ने कहा, “हमारी योजना चीन के मुक्केबाज को शारीरिक रूप से थकाने की थी और आशीष ने बहुत कोशिश की लेकिन वह अच्छी तरह से पंच नहीं जड़ पाया। उसके मुक्के ऊपर या अगल-बगल से जा रहे थे। तीसरे चरण में ही उसे कुछ नियंत्रण मिला लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।” आशीष बायीं आंख के नीचे चोट के बावजूद तीसरे चरण में ताओहेता को परेशान करने में सफल रहे और जजों ने भी उनके पक्ष में फैसला दिया लेकिन चीन के खिलाड़ी ने निर्णायक बढ़त हासिल कर ली थी।

    नीवा ने कहा,  “पहले दो चरण में उसका डिफेंस बेहतर होना चाहिए था। उसने छोटी-छोटी गलतियाँ जिसकी कीमत उसे चुकानी पड़ी। उसने हालांकि अपनी ओर से कोशिश की।” आशीष ओलंपिक से बाहर होने वाले तीसरे भारतीय मुक्केबाज है। इससे पहले विकास कृष्ण (69 किग्रा) और मनीष कौशिक (63 किग्रा) भी शुरुआती दौर में हार के बाद बाहर हो गये थे। बुधवार को लवलीना बोरगोहेन (69 किग्रा)  चुनौती पेश करने वाली इकलौती भारतीय मुक्केबाज होंगी। अंतिम-16 के दौर में उनका सामना जर्मनी के नादिने एपेट्जे से होगा। (एजेंसी)