ग्रुप बी से सुपर 12 में क्वालीफाई करने में प्रबल दावेदार के रूप में शुरूआत करेगा बांग्लादेश

    अल अमेरात (ओमान): शानदार लय में चल रही बांग्लादेश की टीम टी20 विश्व कप के ग्रुप बी क्वालीफाइंग दौर में प्रबल दावेदार के रूप में रविवार को यहां अपना अभियान स्कॉटलैंड के खिलाफ शुरू करेगी। ‘अंडरडॉग’ का ‘टैग’ हटाने के लिये पिछले कुछ वर्षों में शानदार काम करने वाली बांग्लादेश की टीम को पहले दौर में स्कॉटलैंड, ओमान और पापुआ न्यू गिनी के साथ रखा गया है। और हालिया फार्म के देखते हुए उसके ग्रुप में शीर्ष पर रहकर सुपर 12 चरण के लिये क्वालीफाई करने की उम्मीद है।  

    बांग्लादेश की टीम इस टूर्नामेंट से पहले कैलेंडर वर्ष में नौ टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में जीत दर्ज कर चुकी है और केवल दक्षिण अफ्रीका से पीछे है जिसके नाम 12 जीत हैं। बल्कि मार्च में न्यूजीलैंड से उसकी सरजमीं पर हारने के बाद से बांग्लादेश ने जिम्बाब्वे (2-1), आस्ट्रेलिया (4-1) और न्यूजीलैंड (3-2) के खिलाफ श्रृंखलायें जीती हैं। अगर बांग्लादेश की टीम ग्रुप बी में शीर्ष पर रहकर क्वालीफाई कर लेती है तो सुपर 12 में वह भारत, अफगानिस्तान, न्यूजीलैंड और पाकिस्तान तथा ग्रुप ए की उप विजेता टीम से जुड़ जायेगी।  

    बांग्लादेश के लिये हालांकि टी20 विश्व कप में सफर इतना अच्छा नहीं रहा है। 2007 में शुरुआती चरण में टीम सुपर आठ में पहुंची थी जो उसके लिये शानदार सफर रहा था। लेकिन इसके बाद से ‘टाइगर्स’ टीम 2009, 2010 और 2012 चरण में एक भी जीत दर्ज नहीं कर सकी। जब 2014 में टीमों की संख्या बढ़ाकर 16 कर दिया गया तो बांग्लादेश की टीम ने वापसी की और ग्रुप ए में शीर्ष पर रहकर सुपर 10 चरण में पहुंची थी, हालांकि इसके बाद सभी चारों मैच गंवा बैठी थी।

    वहीं 2016 में भी यही सिलसिला जारी रहा जिसमें उन्हें भारत से निराशाजनक हार के बाद बाहर होना पड़ा था। लेकिन बांग्लादेश ने सही समय पर फार्म में वापसी की और एमआरएफ टायर्स आईसीसी टी20 अंतरराष्ट्रीय टीम रैंकिंग में छठे स्थान पर काबिज है जिसमें वह आस्ट्रेलिया, वेस्टइंडीज और अफगानिस्तान से आगे है। आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड पर इस साल श्रृंखला में मिली जीत – इन दोनों देशों के साथ श्रृंखला में पहली जीत – इस बात का प्रमाण है कि वह 2021 में कितना शानदार प्रदर्शन कर रही है।  

    युवा और अनुभवी खिलाड़ियों के सही समावेश से बांग्लादेश के पास टूर्नामेंट में दूर तक जाने के लिये सभी चीजें मौजूद हैं। कप्तान महमूदुल्लाह काफी अनुभवी हैं जबकि आल राउंडर शाकिब अल हसन हाल में समाप्त हुई इंडियन प्रीमियर लीग में कोलकाता नाइट राइडर्स के लिये कुछ अच्छा प्रदर्शन करके टीम से जुड़ हैं। टीम के लिये मुश्फिकर रहीम, सौम्य सरकार और तेज गेंदबाज मुस्तफिजुर रहमान काफी अहम खिलाड़ी साबित होंगे। अनुभवी सलामी बल्लेबाज तमीम इकबाल (जिन्होंने खुद को चयन के लिये उपलब्ध नहीं कराया था) की अनुपस्थिति में बल्लेबाजी की जिम्मेदारी लिटन दास, नईम शेख, शाकिब, मुश्फिकुर और खुद कप्तान के कंधों पर होगी।  

    मुस्तफिजुर गेंदबाजी आक्रमण की अगुआई करेंगे जिसमें शाकिब के अलावा शमीम हुसैन, शोरिफुल इस्लाम और स्पिनर नसुम अहमद शामिल हैं। उम्मीद होगी कि महमूदुल्लाह के खिलाड़ी 14 अक्टूबर को अभ्यास मैच में आयरलैंड से मिली हार को भुलाकर लगातार शानदार प्रदर्शन कर ग्रुप में शीर्ष पर रहेंगे। वहीं दूसरी ओर स्कॉटलैंड की टीम चौथी बार टी20 विश्व कप में खेलेगी। उसके कप्तान काइल कोएत्जर को जार्ज मुनसे से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की उम्मीद है जो पिछले कुछ समय से अच्छी फार्म में हैं। कोएत्जर, कैलम मैकलियोड और (सितंबर में जिम्बाब्वे पर जीत में 82 रन की पारी खेलने वाले) रिचर्ड बैरिंगटन बल्लेबाजी विभाग में अहम भूमिका निभायेंगे।

    टीम के मेंटोर इंग्लैंड के पूर्व बल्लेबाज जोनाथन ट्राट हैं। गेंदबाजी इकाई में ब्राड व्हील और जोश डावे शामिल होंगे जिन्होंने क्रमश: हैंपशर और समरसेट के लिये खेलते हुए मिलाकर 30 विकेट झटके हैं। सीम (तेज गेंदबाजी) आक्रमण की अगुआई साफयान शरीफ करेंगे। अभ्यास मैच में नामीबिया पर जीत से स्कॉटलैंड का आत्मविश्वास बढ़ा ही होगा जो पहली बार आईसीसी टूर्नामेंट के मुख्य दौर में पहुंचने की कोशिश करेगी। 

    टीमें इस प्रकार हैं :  

    बांग्लादेश : महमूदुल्लाह (कप्तान), लिटन दास, मोहम्मद नईम, मेहदी हसन, शाकिब अल हसन, सौम्य सरकार, मुश्फिकर रहीम, नुरूल हसन (विकेटकीपर), अफीफ हुसैन, नसुम अहमद, तास्किन अहमद, शमीम हुसैन, मुस्तफिजुर रहमान, मोहम्मद सैफुद्दीन   

    स्कॉटलैंड : काइल कोएत्जर (कप्तान), रिचर्ड बैरिंगटन, डिलन बज, मैथ्यू क्रास (विकेटकीपर), जोश डेवी, एली इवांस, क्रिस ग्रीव्स, माइकल लीस्क, कैलुम मैक्लियोड, जार्ज मुनसे, साफयान शरीफ, हम्जा ताहिर, क्रेग वालेस, मार्क वाट, ब्रैड व्हील।