पहले टी20 मैच में भारतीय स्पिनरों के खिलाफ दुविधा में थे बल्लेबाज: निकोलस पूरन

    कोलकाता: उप कप्तान निकोलस पूरन ने कहा है कि पहले टी20 अंतरराष्ट्रीय मुकाबले में वेस्टइंडीज के बल्लेबाज भारतीय स्पिनरों का सामना करते हुए दुविधा में थे। उन्होंने हालांकि बल्लेबाजों से कहा कि वे तीन मैच की श्रृंखला के अगले दो मैच में ‘मामूली बदलाव’ करते हुए अच्छा प्रदर्शन करें। सलामी बल्लेबाज काइल मायर्स ने वेस्टइंडीज को अच्छी शुरुआत दी जिससे टीम ने छह ओवर में एक विकेट पर 44 रन बनाए। 

    भारतीय स्पिनरों युजवेंद्र चहल और पदार्पण कर रहे रवि बिश्नोई ने इसके बाद मिलकर तीन विकेट चटकाए और बीच के ओवरों में रन गति पर अंकुश लगाते हुए ईडन गार्डन्स पर वेस्टइंडीज को सात विकेट पर 157 रन के स्कोर पर रोक दिया। पूरन ने मैच के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘ईमानदारी से कहूं तो हमें लगता है कि हमने 10 से 15 रन कम बनाए। इस विकेट पर 170 से 175 रन का स्कोर अच्छा होता। हम गेंदबाजों की गलती नहीं निकाल सकते। बल्लेबाजों के रूप में हमें थोड़ी समझदारी दिखानी होगी।”

    पूरन ने बल्लेबाजों से कहा, ‘‘एक बार फिर हमारी बल्लेबाजी में सुधार की जरूरत है। आज हमने स्पिनरों का ठीक ठाक सामना किया। हम सिर्फ साझेदारी बनाना चाहते थे। हमें बस स्पिनरों का सामना थोड़ा बेहतर तरीके से करना होगा।” उन्होंने कहा, ‘‘आज हम दुविधा में थे कि उनके खिलाफ आक्रामक रवैया आपनाएं या उनके ओवर खत्म होने दें। हम वहां दुविधा में फंस गए। इसलिए थोड़ा बहुत बदलाव करने की जरूरत है। अगले मैच में हमें अपनी रणनीति को बेहतर तरीके से लागू करना होगा।”

    पूरन ने साथ ही कहा कि ओस ने अहम भूमिका निभाई क्योंकि काफी अधिक ओस के बीच दूसरी पारी में भारत के लिए बल्लेबाजी करना आसान था। भारत ने मुकाबला छह विकेट से जीता। पूरन ने कहा, ‘‘बेशक यह (ओस) बड़ा मुद्दा था। अगर आप मैच देखोगे तो पता चलेगा कि गेंदबाजों को अंतिम पांच ओवर में गेंद को पकड़ने में दिक्कत हो रही थी। मुझे लगता है कि मैच के दूसरे हाफ में विकेट बेहतर था।” (एजेंसी)