khumble-and-shastri
File Pic

    नयी दिल्ली. कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) के साथ मतभेदों के कारण चार साल पहले अपना पद छोड़ने वाले अनिल कुंबले (Anil Khumlein) और अपनी कलात्मक बल्लेबाजी के लिये मशहूर वीवीएस लक्ष्मण (V.V.S Laxman) भारतीय क्रिकेट टीम का मुख्य कोच बनने की दौड़ में शामिल हो सकते हैं। वर्तमान कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) का कार्यकाल टी20 विश्व कप के बाद समाप्त हो जाएगा और ऐसे में सौरव गांगुली की अगुवाई वाला भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) कुंबले और लक्ष्मण से मुख्य कोच पद के लिये आवेदन करने को कह सकता है। कुंबले 2016-17 में भारतीय टीम के कोच थे।

    सचिन तेंदुलकर, लक्ष्मण और गांगुली की अगुवाई वाली क्रिकेट सलाहकार समिति ने उन्हें शास्त्री के स्थान पर कोच नियुक्त किया था। लेकिन चैंपियन्स ट्राफी फाइनल में पाकिस्तान से हार के बाद उनके कोहली के साथ मतभेद खुलकर सामने आ गये थे। इसके बाद कुंबले ने अपने पद से त्यागपत्र दे दिया था। बीसीसीआई कुंबले के अलावा लक्ष्मण से भी संपर्क कर सकता है जो पिछले कुछ वर्षों से इंडियन प्रीमियर लीग की टीम सनराइजर्स हैदराबाद से जुड़े हुए हैं।

    इसके बावजूद कुंबले कोच पद के प्रबल दावेदार रहेंगे। बीसीसीआई सूत्रों ने गोपनीयता की शर्त पर पीटीआई से कहा, ‘‘अनिल कुंबले ने जिन परिस्थितियों में पद छोड़ा था उसमें सुधार करने की जरूरत है। जिस तरह से सीओए (प्रशासकों की समिति) कोहली के दबाव में आ गयी थी और उन्हें (कुंबले) को हटा दिया गया था वह सही नहीं था। हालांकि यह इस पर भी निर्भर करेगा कि कुंबले या लक्ष्मण इस पद के लिये आवेदन करने के इच्छुक हैं या नहीं। ” कोहली पहले ही घोषणा कर चुके हैं कि वह विश्व कप के बाद टी20 की कप्तानी छोड़ देंगे। बीसीसीआई की पहली पसंद भारतीय कोच हैं तथा कुंबले और लक्ष्मण को 100 से अधिक टेस्ट मैच खेलने के अलावा कोचिंग का भी अनुभव है। विदेशी कोच दूसरा विकल्प है।

    सूत्र ने कहा, ‘‘बीसीसीआई के कोच पद के लिये मानदंड ऐसा होगा जिससे कि खिलाड़ी के रूप अच्छे रिकार्ड के साथ कोचिंग का अनुभव रखन वाले ही आवेदन कर सके।” सूत्रों से विक्रम राठौड़ की दावेदारी के बारे में पूछा गया, उन्होंने कहा, ‘‘अगर वह चाहें तो आवेदन कर सकते है लेकिन भारतीय क्रिकेट टीम का मुख्य कोच बनने के लिये उनके पास वैसा रूतबा नहीं है।” उन्होंने कहा, ‘‘वह सहायक कोच के रूप में अच्छे हैं लेकिन जब हम नये कोच की नियुक्ति करेंगे तो उनके पास अपनी टीम होगी। इसलिए देखते हैं क्या होता है।”