गौतम गंभीर: लगातार पांच टेस्ट मैच में शतक जड़ने वाला इकलौता भारतीय खिलाड़ी, 2007 और 2011 के वर्ल्ड कप में किया कमाल

    नई दिल्ली: टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज और मौजूदा सांसद गौतम गंभीर (Gautam Gambhir Birthday) का आज यानी 14 अक्टूबर को जन्मदिन है। इस साल वह अपना 40वां जन्मदिन मना रहे हैं। गंभीर इस समय दिल्ली से भाजपा के सांसद (BJP Sansad) हैं। गंभीर अब भले ही राजनीति में कदम रख चुके हैं, लेकिन एक समय वह भारतीय टीम (Indian Cricket Team) के शान हुआ करते थे। भारतीय क्रिकेट टीम के महत्वपूर्ण खिलाड़ियों में उनकी गिनती होती थी। आईपीएल (Gautam In IPL) में भी उन्होंने बहुत से कमाल किए हैं। आईपीएल में वह कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) टीम के कप्तान हुआ करते थे। जहां उनका प्रदर्शन काफी शानदार हुआ करता था। 

    डेब्यू मैच 

    गंभीर का जन्म आज ही के दिन साल 1981 में दिल्ली में हुआ था। उन्होंने महज 10 साल की उम्र से ही क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था। वहीं 22 साल की उम्र में ही उन्होंने टीम इंडिया के लिए डेब्यू किया था। उन्होंने साल 2003 में बांग्लादेश के खिलाफ वनडे मैच खेलते हुए अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत की थी। वहीं साल 2004 में उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलते हुए टेस्ट मैच में डेब्यू किया था।

    गौतम गंभीर का इंटरनेशनल करियर 

    बाएं हाथ के इस ओपनर ने 147 टेस्ट में 11 शतकीय पारी की मदद से 5238 रन बनाए। जिसमें ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 206 रन की पारी सबसे बड़ी रही। वहीं 58 वनडे खेलने वाले गंभीर के नाम इस फॉर्मेट में 4154 रन है। वनडे में इस बल्लेबाज ने 9 शतक और 22 अर्धशतक बनाए हैं। 37 टी20 मुकाबले खेलकर गंभीर ने कुल 932 रन बनाए जिसमें 2007 विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ 75 रन की पारी सर्वश्रेष्ठ रही।

    2007 टी20 वर्ल्ड कप फाइनल में खेली यादगार पारी 

    2007 के टी20 वर्ल्ड कप में गंभीर ने शानदार पारी खेली थी। पाकिस्तान के खिलाफ हुए फाइनल मैच में गंभीर ने 75 रन की अहम पारी खेली थी। जिसके कारण भारतीय टीम 20 ओवर में 157 रन बना पाने में सफल रही थी। भारत ने फाइनल में पाकिस्तान को हराकर पहली बार हुए टी-20 वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया था। इस पूरे मैच में गंभीर की पारी एक यादगार पल मानी जाती है। 

    2011 फाइनल की पारी रही अहम

    2011 में हुआ वर्ल्ड कप किसे याद नहीं होगा। यह साल भारत के लिए किसी सरप्राइज से कम नहीं था। 2011 वर्ल्ड कप फाइनल में भले ही धोनी को विनिंग सिक्स के लिए काफी सराहना मिली, लेकिन इस मैच में गौतम गंभीर की पारी को कोई भुला नहीं सकता। जिस तरह वर्ल्ड कप के फाइनल में उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ बल्लेबाजी की थी वह लोगों को आज भी याद है। फाइनल में गंभीर 97 रन नहीं बनाते तो शायद परिणाम कुछ और हो सकता था। भले ही गंभीर शतक से केवल 3 रन से चूक गए थे। लेकिन, उनकी पारी के दम पर ही भारतीय टीम श्रीलंका के द्वारा दिए गए लक्ष्य को हासिल करने में कामयाब रही थी। अपनी इस तूफानी पारी में गंभीर ने 9 चौके लगाए थे। 

    लगातार 5 शतक

    गौतम गंभीर केवल एक भारतीय और चार अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों में से एक है, जो लगातार पांच टेस्ट मैचों में शतक जड़ने में सफल रहे हैं। वह लगातार चार टेस्ट सीरीज में 300 से ज्यादा रन बनाने वाले एकमात्र भारतीय बल्लेबाज हैं। आज तक उनका यह रिकॉर्ड कोई नहीं तोड़ पाया है।