Cheteswar Pujara
File Photo

    -विनय कुमार

    भारतीय टेस्ट टीम के मंजे हुए बल्लेबाज़ चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) ने माना कि पहले वे अपने ऊपर बहुत ज्यादा तनाव लेते थे। पुजारा ने कहा कि लीड्स (Leeds Test India vs England 2021) और ओवल (Oval India vs England 2021) में 91 और 61 रनों की पारी खेलने के बाद उनकी सोच बदल गई है। चेतेश्वर ने कहा कि ये कोई तकनीक में बदलाव की बात नहीं थी, बल्कि निर्भय होकर मैदान पर ताल ठोकने से ये संभव हो पाया।

    उन्होंने कहा कि पिछले 3 साल से उन्होंने कोई सेंचुरी नहीं लगाई। लेकिन, इस बात का इनपर कोई प्रेशर नहीं है। पुजारा का मानना है कि टीम की जीत के लिए अगर वे 80-90 रन स्कोर कर रहे हैं, तो कोई परेशानी की बात नहीं है।  उन्होंने कहा कि न्यूजीलैंड के खिलाफ (India vs New Zealand Test Series, 2021) इस ताज़ा टेस्ट सीरीज में वे अपने अनुभव का पूरा लाभ उठाने की कोशिश करेंगे।

    चेतेश्वर पुजारा से जब सवाल किया गया कि क्या इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में बढ़िया प्रदर्शन न करने पर आपको आलोचना झेलनी पड़ी ? इस सवाल के जवाब में पुजारा ने कहा कि तरीका बदलने की बात सही है। क्योंकि, जब दिमाग में बढ़िया खेल दिखाने की बात हो, तो यह बात दिमाग में तो होती ही है। लेकिन, यदि खेलने की तकनीक की बात की जाए, तो मुझे नहीं लगता कि उसमें कोई कुछ बदलाव करने की आवश्यकता पड़ती है।”

    कानपुर (India vs New Zealand Kanpur Test Match, 2021) में टीम के साथ प्रैक्टिस आरंभ करने से पहले चेतेश्वर पुजारा ने कहा कि उन्होंने अपनी अप्रोच को थोड़ा अटैकिंग बनाया। जिसके बाद उनके खेलने में अलग आनंद भी आ रहा है। उन्होंने यह भी माना कि कुछ समय पहले तक वे दिमागी तौर प्रेशर लेकर खेलते थे।

    पुजारा ने कहा, “आपको कभी भी बहुत अधिक तनाव नहीं लेना चाहिए। बस मैदान में उतरेंं और अपने खेल का मजा लीजिए।” उन्होंने कहा कि न्यूजीलैंड के खिलाफ ताज़ा सीरीज में उनको भारत के मैदानों में खेलने के अनुभव से बहुत मदद मिलेगी। गौरतलब है कि चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) के बल्ले से जनवरी 2019 से अब तक कोई सेंचुरी नहीं निकली है। इस मामले पर पुजारा ने कहा, “मुझे कोई परेशानी नहीं है। मैं एक बल्लेबाज हूं और मेरा काम मैदान में उतरकर टीम के लिए जरूरी स्कोर करना है।”

    अजिंक्य रहाणे को लेकर पुजारा का बयान

    अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) को लेकर सवाल किए गए, तब उन्होंने कहा कि रहाणे जैसे बेहतरीन बल्लेबाजों ज्यादा दिनों तक खामोश नहीं रहता है। वे एक महान बल्लेबाज हैं और हर खिलाड़ी के जीवन में ऐसा दौर आता है जब वह खराब फॉर्म से गुजरता है। रहाणे को अपनी लय में आने के लिए सिर्फ एक बढ़िया पारी चाहिए। वे नेट पर काफी मेहनत कर रहे हैं।,”

    टीम इंडिया के ने कोच राहुल द्रविड़ ,(Rahul Dravid Head Coach Team India) को लेकर उन्होंने कहा कि उनके कोच बनने से यकीनन टीम के कई खिलाड़ियों को मदद मिलेगी।