sahwag

    नयी दिल्ली. वैसे तो वीरेंद्र सहवाग के धाकड़ बल्लेबाजी का लुत्फ़ हर क्रिकेट प्रशंसक ने लिया है। लेकिन आज ही के दिन, भारतीय क्रिकेट टीम (India National Cricket Team) के इस 43 वर्षीय पूर्व दिग्गज और तोड़ बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) ने इतिहास रचते हुए एकदिवसीय क्रिकेट में अपना पहला और क्रिकेट इतिहास का दूसरा दोहरा शतक दे मारा था। 

    सहवाग की इस विस्फोटक और ताबड़तोड़ पारी का गवाह बना था इंदौर का होल्कर स्टेडियम। एक ख़ास बात और इस मुकाबले में भारतीय टीम की अगुवाई खुद सहवाग ही कर रहे थे। उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करना का फैसला लिया। इस मुकाबले में उन्होंने गौतम गंभीर (67) के साथ पारी की शुरुआत करते हुए महज 149 गेंदों में ही 219 रन सूट डाले थे । 

    सहवाग के बल्ले से इस विस्पोटक बल्लेबाजी के दौरान25 चौके और 7 बेहतरीन गगनभेदी छक्के भी निकले। नतीजा वही सिफर रहा कि भारतीय टीम इस मुकाबले में पांच विकेट के नुकसान पर वेस्टइंडीज के सामने 418 रनों का पहाड़ सरीखा स्कोर खड़ा करने में कामयाब रही थी।

    वहीं सहवाग के अलावा टीम के लिए सुरेश रैना ने 44 गेंद में 55, रविंद्र जडेजा ने 10 गेंद में 10, रोहित शर्मा ने 16 गेंद में 27 विराट कोहली ने 11 गेंद में नाबाद 23 और पार्थिव पटेल ने तीन गेंद में नाबाद तीन रन की पारी खेली थी। लेकिन वेस्टइंडीज के गेंदबाजों को उस दिन सहवाग ने जितना कुटा, उसका दर्द वे आज शायद आज तक न भले हों।

    वहीं भारत द्वारा दिए गए 419 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए पूरी कैरेबियाई टीम 49।2 ओवरों में 265 रनों पर ही ढेर हो गई। हालाँकि विपक्षी टीम द्वारा  इस मुकाबले में विकेटकीपर खिलाड़ी दिनेश रामदीन ही कुछ देर मैदान में भारतीय गेंदबाजों का सामना करने में कामयाब हुए थे।

    उन्होंने इस मुकाबले में 96 गेंदों का सामना करते हुए 12 चौके की मदद से बेहतरीन 96 रनों की उम्दा पारी खेली थी, लेकिन अफ़सोस वह शतक से महज चार रन से चूके।इधर भारत के लिए इस मुकाबले में रविंद्र जडेजा और राहुल शर्मा ने क्रमशः 3-3 विकेट लिए थे। इसके अलावा टीम के लिए सुरेश रैना ने 2और अश्विन ने एक सफलता प्राप्त की थी। 

    गौरतलब है कि वनडे क्रिकेट में सबसे पहले दोहरा शतक जड़ने का रिकॉर्ड भारत के ही पूर्व महान बल्लेबाज और क्रिकेट के मास्टर ब्लास्टर  सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के नाम दर्ज है। जी हाँ सचिन ने साल 2010 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ नाबाद 200 रनों की एक यादगार और उम्दापारी खेली थी।