टी20 विश्व कप को ध्यान में रखकर आईपीएल में उतरेंगे खिलाड़ी

    दुबई: चेन्नई सुपर किंग्स और मुंबई इंडियन्स के बीच रविवार को होने वाले धमाकेदार मैच से इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के दूसरे चरण का आगाज होगा जिसमें खिलाड़ियों को टी20 विश्व कप से पहले यूएई की परिस्थितियों को समझने का भी मौका मिलेगा। भारत में कोविड-19 की दूसरी लहर के कारण आईपीएल को मई में बीच में ही स्थगित करना पड़ा था। उस समय तक टूर्नामेंट के 29 मैच ही हो पाये थे। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) अब ऐसी किसी स्थिति से बचने के लिये प्रार्थना कर रहा होगा। 

    बीसीसीआई को आईपीएल के दूसरे चरण के आयोजन के लिये कार्यक्रम तय करने में काफी मशक्कत करनी पड़ी थी। ऐसे में इंग्लैंड दौरे पर गयी भारतीय टीम में कोविड-19 के मामले पाये जाने से बीसीसीआई की भी सांसे फूलने लगी थी लेकिन यह बड़ा मुद्दा नहीं बना तथा भारत और इंग्लैंड के जिन खिलाड़ियों को आईपीएल में खेलना है वे सुरक्षित यहां पहुंच गये। पिछले वर्ष पूरा आईपीएल यूएई में खेला गया था और तब किसी तरह की परेशानी नहीं हुई थी। बीसीसीआई को इस बार भी यहां टूर्नामेंट के सफल आयोजन की उम्मीद है।

    आईपीएल में 2019 के बाद पहली बार सीमित संख्या में दर्शक भी उपस्थित रहेंगे जिससे टूर्नामेंट का रोमांच बढ़ गया है। टी20 विश्व कप के लिये टीमें घोषित की जा चुकी हैं लेकिन आईपीएल के प्रदर्शन को तब भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। किसी खिलाड़ी के चोटिल होने पर अंतिम क्षणों में भी कोई अन्य खिलाड़ी उसकी जगह ले सकता है। 

    अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने वैसे भी 10 अक्टूबर तक बदलाव की अनुमति दे रखी है। विश्व कप के बाद टी20 की कप्तानी छोड़ने की घोषणा करने वाले भारतीय कप्तान विराट कोहली आईसीसी ट्राफी उठाने का अपना सपना पूरा करने से पहले रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर को आईपीएल का पहला खिताब दिलाना चाहेंगे। पिछले साल का उप विजेता दिल्ली कैपिटल्स भी अपने पहले खिताब की तलाश में है। वह अभी अंक तालिका में शीर्ष पर है। उसके अलावा चेन्नई, बेंगलोर और पांच बार का चैंपियन मुंबई इंडियन्स शीर्ष चार में शामिल हैं।

    यूएई में आईपीएल के 31 मैच खेले जाएंगे और इसका मतलब होगा कि टूर्नामेंट के दौरान पिच अच्छी रहेगी। भारत की तुलना में परिस्थितियां भिन्न होंगी और पिचें कुछ धीमी होंगी ऐसे में सभी टीमें नये सिरे से ही शुरुआत करेंगी। चेन्नई और मुंबई की चिर प्रतिद्वंद्विता के साथ रविवार को आईपीएल बहाल होगा। मुंबई ने अब तक सात मैचों में चार में जीत दर्ज की है और किसी भी तरह की ढीली शुरुआत उसे भारी पड़ सकती है।

    पिछले साल के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद चेन्नई ने लय हासिल कर ली है। उसके सात मैच में पांच जीत से 10 अंक हैं। उसके युवा खिलाड़ियों रुतुराज गायकवाड़ और सैम करेन ने अब तक अच्छा प्रदर्शन किया है। उसके स्पिनरों इमरान ताहिर, मोईन अली और रविंद्र जडेजा ने भी प्रभाव छोड़ा। मोईन और जडेजा ने बल्लेबाजी में भी अच्छा प्रदर्शन किया है। कई दिग्गज खिलाड़ियों से सजी यह टीम अब कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और सुरेश रैना के भी लय में लौटने की उम्मीद कर रही होगी।

    जहां तक मुंबई का सवाल है तो उसके मध्यक्रम को अच्छा प्रदर्शन की जरूरत है और उसके गेंदबाजों को भी पावरप्ले में बेहतर खेल दिखाना होगा। कप्तान रोहित शर्मा शानदार फॉर्म में चल रहे हैं जबकि सूर्यकुमार यादव, इशान किशन और लेग स्पिनर राहुल चाहर विश्व कप टीम में जगह बनाने से आत्मविश्वास से ओतप्रोत होंगे। हार्दिक पंड्या के भी नियमित रूप से गेंदबाजी करने की उम्मीद है जिससे आईसीसी टूर्नामेंट के लिये भारत के पास अधिक विकल्प हो जाएंगे। पंजाब किंग्स, राजस्थान रॉयल्स और कोलकाता नाइट राइडर्स की टीमें कुछ खिलाड़ियों के हटने से प्रभावित हुई हैं। उसके अन्य खिलाड़ियों को इसकी भरपायी करनी होगी। (एजेंसी)