Team Australia
AP/PTI Photo

    -विनय कुमार

    UAE के मैदान पर खेले जा रहे ICC T20 World Cup, 2021 में शनिवार, 23 अक्टूबर  को ऑस्ट्रेलिया और साउथ अफ्रीका के बीच (Australia vs South Africa) खेले गए मुकाबले के साथ ही  Super-12 स्टेज की शुरूआत हो गई। T20 वर्ल्ड कप के इस चक्रव्यूह के पहले मैच में साउथ अफ्रीका के बल्लेबाजों ने बल्लेबाजी में निराश ज़रूर किया, लेकिन उस टीम के घातक गेंदबाजों ने धारदार गेंदबाजी से बेहद लो स्कोरिंग मैच को फाइनल ओवर थ्रिलर (Death Over Thriller) बना दिया। इस मैच में पहले बल्लेबाजी करने मैदान में उतरी साउथ अफ्रीका (South Africa) की टीम 20 ओवर में सिर्फ 118 रन ही बना सकी और ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए 119 रन का लक्ष्य दिया। इस लक्ष्य का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया (Australia) ने 5 विकेट के नुकसान पर अंतिम ओवर में बेहद रोमांचक तरीके से जीत हासिल की और जीत के साथ सुपर-12 का आगाज़ किया।

    आज के मैच में ऑस्ट्रेलिया की टीम ने टॉसजीता और पहले गेंदबाजी का फैसला किया। पहले गेंदबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलिया के घातक गेंदबाज जोश हेजलवुड (Josh Hazlewood), मिचेल स्टार्क (Mitchell Starc) और एडम जम्पा (Adam Zampa) ने 2-2 विकेट झटक कर ऑस्ट्रेलिया को बढ़त दिलाई और साउथ अफ्रीका (South Africa) के बल्लेबाजों को बड़े शॉट लगाने पर नकेल कसा। पहले बल्लेबाजी करने मैदान में उतरी साउथ अफ्रीका की टीम की बल्लेबाज़ी की शुरुआत ठीक नहीं थी और पावरप्ले के भीतर उसके 3 विकेट उड़ चुके थे।

    मिडल ऑर्डर के बल्लेबाजों में एडेम मार्करम (Adam Markram) ने 40 रनों की पारी खेलकर हेनरी क्लासेन (16 रन) और डेविड मिलर (David Miller) 13 रन के साथ साउथ अफ्रीका की पारी को संभालने की पूरी कोशिश की। लेकिन, एडम जंपा (Adam Zampa) और जोश हेजलवुड ने साउथ अफ्रीका को बल्लेबाजी में वापसी करने का अवसर ही नहीं दिया। कगिसो रबाडा (Kagiso Rabada) ने 19 रनों की महत्वपूर्ण पारी खेली, जिसकी बदौलत साउथ अफ्रीका 20 ओवर में 9 विकेट खोकर बड़ी मुश्किल से 118 रनों का स्कोर खड़ा कर पाई।

    क्रिकेट का इतिहास बताता है कि ICC WORLD CUP में साउथ अफ्रीका की तरफ से बनाया गया यह दूसरा न्यूनतम स्कोर है। जिसके बाद ऐसा लगा कि ऑस्ट्रेलिया इस लक्ष्य  बहुत जल्दी और बड़े आराम से इस आसान लक्ष्य को चेज कर जीत जाएगी। लेकिन, ऑस्ट्रेलिया को साऊथ अफ्रीका ने पानी पिला दिया। नाकों चने चबवा दिए। 119 रनों का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलिया की टीम की तरफ से कप्तान एरॉन फिंच (Aaron Finch Captain Australia) पारी के दूसरे ओवर में बिना खाता खोले एनरिच नॉर्खिया (Anrich Nortje) का शिकार बन गए।

    वहीं, ऑस्ट्रेलिया के धाकड़ बल्लेबाज़ डेविड वॉर्नर (David Warner) 14 रन बनाकर कगिसो रबाडा (Kagiso Rabada) की गेंद पर हेनरी क्लासेन के हाथों लपक लिए गए पवेलियन लौटा दिए गए। मिचेल मार्श (Mitchell Marsh) 11 रन बनाकर गेंदबाज केशव महाराज (Keshav Maharaj) की गेंद पर कैच थमाकर लौट गए। उनके बाद alla थामे मैदान पर उतरे ग्लेन मैक्सवेल (Glenn Maxwell) ने 18 और स्टीव स्मिथ (Steve Smith) ने 35 रन बनाकर चौथे विकेट के लिये 42 रनों की साझेदारी की और लड़खाए कदम को बचाने का काम किया। उसके बाद, एनरिच नॉर्खिया ने स्टीव स्मिथ को कैच कराया और ठीक अगले ओवर में तबरेज शम्सी (Tabrez Shamsi) ने ग्लेन मैक्सवेल को बोल्ड कर वापस भेज दिया और मैच में ऑस्ट्रेलिया को टेंशन दे दिया।

    119 रनों के आसान टारगेट को चेज़ करते हुए ऑस्ट्रेलिया की टीम को जीत के लिए अंतिम ओवर में 8 रन की जरूरत थी, जिसे मार्कस स्टॉयनिस (Marcus Stoinis) ने 2 गेंद शेष रहते अपनी टीम को 5 विकेट से जीत दिला दी। इस जीत के साथ लगातार 3 T20 सीरीज हारकर वर्ल्ड कप खेलने पहुंची ऑस्ट्रेलिया ने इस महायुद्ध में अपने अभियान की शुरुआत  की।