File Photo
File Photo

    नई दिल्ली. दुनिया भर में क्रिकेट के कई फैंस हैं। क्रिकेट ने कई लोगों की किस्मत बदल दी, जबकि कई लोग अपनी किस्मत बदलने में असफल रहे। वहीं कुछ क्रिकेट खिलाड़ी देश के लिए खेलने के बावजूद आज कोई दूसरा काम कर रहे हैं। कुछ खिलाड़ी ऐसे भी हैं जिनकी, जो आर्थिक संकट से गुजर रहे हैं और मजदूरी करने पर मजबूर हो गए हैं। आज हम ऐसे ही एक खिलाड़ी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसने भारत को वर्ल्ड चैंपियन बनाया। और उस खिलाड़ी का नाम है नरेश तुमडा (Naresh Tumda)।

    भारत के लिए ब्लाइंड क्रिकेट (Blind Cricket) खेलने वाले खिलाड़ी नरेश तुमडा ने आज आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं। नरेश 2018 में नेत्रहीन वर्ल्ड कप विजेता टीम का हिस्सा थे।

    कोविड-19 के कारण पूरी दुनिया को जिस लॉकडाउन का सामना करना पड़ा था। जिसके कारण नरेश की स्थिति और भी खराब हो गई। इन दिनों नरेश गुजरात के नवसारी इलाके में सब्जी बेचने और मजदूरी का काम कर रहे हैं।

    नरेश ने कहा, “मैं मजदूरी का काम करके रोजाना 250 रुपये कमाता हूं। मैंने तीन बार मुख्यमंत्री से नौकरी के लिए गुहार लगाई, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। मैं सरकार से गुजारिश करता हूं कि मुझे नौकरी दे ताकि मैं अपने परिवार की देखभाल कर सकूं।”

    Narsh Tumda, Cricket

    नरेश के अनुसार जब वे वर्ल्ड कप जीतकर भारत पहुंचे, तो उन्होंने विभिन्न उच्च अधिकारियों और यहां तक ​​​​कि राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से भी मुलाकात की। उन्होंने सोचा था कि प्रतिष्ठित ट्रॉफी जीतकर उसे जल्दी से नौकरी मिल जाएगी। हालांकि, जैसी उन्होंने उम्मीद की थी वैसा नहीं हुआ।नरेश ने अब भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनकी आजीविका के लिए उन्हें नौकरी के लिए गुहार लगाई है।

    ज्ञात हो कि 2018 का ब्लाइंड क्रिकेट वर्ल्ड कप का फाइनल मैच भारत और पाकिस्तान के बीच खेला गया था। इस मैच में पाकिस्तान ने भारत के सामने विशाल स्कोर खड़ा किया था। जिसका पीछा करने उतरी भारतीय टीम ने 38.2 ओवर में ही 8 विकेट के नुकसान पर 309 रन बना लिए और विश्व कप अपने नाम किया।