tim-paine

    नयी  दिल्ली. बात करते हैं मार्च 2018 की, एक ऐसा खिलाड़ी जो ऑस्ट्रेलियाई टीम (Australian Team) का कप्तान बना। जिसकी अपने राज्य की टीम में भी जगह तय नहीं थी। इसके साथ ही जो रिटायरमेंट का फैसला कर चुका था। और कूकाबुरा कंपनी में काम करने जाने वाला था। लेकिन राज्य टीम के कोच के कहने पर ही ये हरफनमौला रुका हुआ था और रिटायरमेंट का ऐलान नहीं किया था। लेकिन यह बात तो बीते अक्टूबर-नवंबर 2017 की थी। हालाँकि सिर्फ पांच महीने के बाद हालात-जज्बात सब बदल गए। 

    मिली थी ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम की कमान  

    इस बीच ऑस्ट्रेलियन टीम का कप्तान और उपकप्तान गेंद से छेड़छाड़ के मामले में बहुत ज्यादा शर्मिंदा हो रहे थे। और एक साल के लिए सभी बैन कर दिए गए थे। ऐसे में एक 33 साल के जिस शख्स को कप्तान बनाया गया और  उसका आज बर्थडे है। जी हाँ, इस शख्स का नाम है टिम पेन (Tim Paine). और जो खिलाड़ी बैन हुए वे थे स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर। पता हो कि , स्मिथ-वॉर्नर के चलते ऑस्ट्रेलियाई टीम की क्रिकेट जगत काफी थू-थू हुई। इस शर्मिंदगी से बाहर निकालने का जिम्मा पेन पर आया। आगे चलकर उन्होंने ऐसा कमाल किया कि इंग्लैंड में जाकर एशेज सीरीज बचाकर इतिहास ही रच दिया।

    आज खुद भी हैं शर्मिदा 

    हालाँकि खुद टिम पेन भी आज शर्मिदा हो रखे हैं और उनके चलते भी ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम की जगहंसाई हो रही है। दरअसल  इंग्लैंड के खिलाफ प्रतिष्ठित एशेज सीरीज शुरू होने से पहले ही ऑस्ट्रेलिया को बड़ा झटका लगा, और टिम पेन ने एक बड़े विवाद में नाम आने पर ऑस्ट्रेलिया की टेस्ट कप्तानी से इस्तीफा दे दिया। 

    पेन ने बाद में इस बात की जानकारी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए दी है। उन्होंने कहा, ”मैं ऑस्ट्रेलिया मेन्स क्रिकेट टीम के कप्तान के पद से इस्तीफा देता हूं।’ जी हाँ मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो, पेन ने 2018 में एक लड़की को अपनी अश्लील तस्वीरें और मैसेज भेजे थे जो अब वायरल हो गए हैं। यही वजह है कि उन्होंने कप्तानी से हटने का फैसला किया है।

    कभी अंगुली की चोट से ठहर गया करियर

    जी हाँ, अंगुली की चोट के चलते जिस वक्त उनका करियर ठहरा था, तब वे पाकिस्तान और भारत के खिलाफ चार टेस्ट भी खेल चुके थे। इतना ही नहीं 2009 में चैंपियंस ट्रॉफी जीतने वाली ऑस्ट्रेलियन टीम के कीपर और ओपनर भी वे ही थे। इसके बाद साल 2011 में टीम से बाहर होने के बाद करीब छह साल बाद 2017 में उनकी फिर से ऑस्ट्रेलियाई टीम में वापसी हुई। यह वापसी श्रीलंका के खिलाफ टी20 मैच के जरिए हुई थी। इसके बाद अगले पांच महीनों में वे टेस्ट टीम का हिस्सा भी बन गए थे।