Indian young players are achieving success from the beginning due to strong domestic structure: Vikram Rathore
विक्रम राठौड़ (PIC Credit: Social Media)

Loading

रांची: यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) और सरफराज खान (Sarfaraz Khan) जैसे खिलाड़ियों ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शुरू में ही सफलता हासिल की है और भारत के बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौड़ (Vikram Rathour) ने इसका श्रेय देश के मजबूत घरेलू ढांचे को दिया।

मुंबई के 22 वर्षीय जायसवाल ने अभी तक केवल छह टेस्ट मैच खेले हैं लेकिन उनके नाम पर दो दोहरे शतक दर्ज हैं। सरफराज ने इंग्लैंड के खिलाफ राजकोट में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया और दोनों पारियों में अर्धशतक जमाए। राठौड़ ने इंग्लैंड के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच की पूर्व संध्या पर कहा,‘‘यह टीम के लिए अच्छा है और उनके लिए भी बेहतर है। जब आप टेस्ट क्रिकेट खेलना शुरू करते हैं तो दबाव होता है लेकिन अगर आपकी शुरुआत अच्छी रहती है तो इससे बेहतर और कुछ नहीं होता है।”

उन्होंने कहा, ‘‘टीम में जो युवा खिलाड़ी आए हैं उन्होंने अच्छी शुरुआत की है और यह अच्छा एहसास है। उनमें क्रिकेट की अच्छी समझ है जो बहुत अच्छा संकेत है। घरेलू क्रिकेट से यह बहुत अच्छा संदेश मिल रहा है कि नए खिलाड़ी क्रिकेट को लेकर अच्छी समझ रखते हैं।” इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला में विराट कोहली नहीं खेल रहे हैं जबकि केएल राहुल भी एक मैच खेलने के बाद चोटिल होने के कारण बाहर हैं।

राठौड़़ ने कहा,‘‘हमारा शुरू से ही मानना था कि हमारा घरेलू क्रिकेट काफी मजबूत है और जो भी खिलाड़ी राष्ट्रीय टीम में आएगा वह अच्छा प्रदर्शन करके ही आएगा। मैं नहीं जानता कि जब केएल राहुल और विराट कोहली वापसी करेंगे तो तब क्या होगा। यह अभी चिंता का विषय नहीं है।” भारतीय बल्लेबाजी कोच ने रजत पाटीदार का भी समर्थन किया जो अभी तक अपेक्षित प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं।

राठौड़ ने कहा,‘‘केवल दो मैच में असफल होने से वह खराब खिलाड़ी नहीं बन जाता। उसने जिस तरह की भी क्रिकेट खेली उसमें वास्तव में अच्छा प्रदर्शन किया है। इसमें कोई संदेह नहीं कि वह अच्छा खिलाड़ी है और जब उसका दिन होगा तो वह बेहद प्रभावशाली पारी खेलेगा।”

(एजेंसी)