virat-kohlis-return-will-create-big-hole-india-australia-series-fate-lies-on-selection-choices-ian-chappell

-विनय कुमार

भारत और ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीम दुनिया की दो सर्वश्रेष्ठ टीम मानी जाती है। दोनों ही देश टक्कर के है। आज की बात नहीं है, बल्कि क्रिकेट का इतिहास बताता है कि दोनों देशों की टीम में हमेशा ही घातक और ख़तरनाक गेंदबाजों के साथ बेहतरीन बल्लेबाजों को मौजूदगी रही है। अगर बात आती है दोनों देशों को मिलाकर प्लेइंग इलेवन (India and Australia Combined Test Team) तैयार करने की तो बड़ा ही मुश्किल काम होगा, क्योंकि दिग्गज खिलाड़ियों में से 11 खिलाड़ियों को चुनना आसान नहीं है। टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज आकाश चोपड़ा (Akash Chopra) ने ये काम करके दिखाया है। उन्होंने भारत-ऑस्ट्रेलिया (India-Australia) के खिलाड़ियों को लेकर एक संयुक्त टेस्ट टीम बनाई है।

सहवाग और हेडन करेंगे ओपनिंग

आकाश चोपड़ा (Akash Chopra) ने अपने ऑफिशल फ़ेसबुक पेज पर एक वीडियो पोस्ट की है, जिसमें उन्होंने इसकी चर्चा की है। आकाश ने पूर्व खिलाड़ियों के साथ-साथ मौजूदा खिलाड़ियों को भी चुना और प्लेइंग इलेवन (Playing-XI India Australia Joint Test Team) तैयार की। आकाश चोपड़ा ने बताया कि उन्होंने दोनों देशों के बीच हुए मैचों में खिलाड़ियों के प्रदर्शन के आधार पर खिलाड़ियों को चुना और टीम तैयार की है।

आकाश चोपड़ा ने वीरेंद्र सहवाग (Virendra Sehwag) और मैथ्यू हेडन (Methew Heyden) को अपनी टीम के ओपनिंग बल्लेबाजों के तौर पर चुना। उन्होंने सहवाग के रिकॉर्ड की भी चर्चा की। मेथ्यू हेडन की प्रशंसा करने और टीम ऑस्ट्रेलिया के मौजूदा खिलाड़ी डेविड वार्नर (David Warner) को नहीं चुनने की वजह भी बताई।

पोंटिंग और द्रविड़ के ज़्यादा पुजारा को अहमियत

आकाश चोपड़ा का कहना है, “मैंने डेविड वार्नर जैसे खिलाड़ियों को नहीं चुना है, जिन्होंने दूर की परिस्थितियों में अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है। मैंने मैथ्यू हेडन (Methew Heyden) को चुना है। वह एक ख़तरनाक बल्लेबाज थे। वह बल्लेबाजी करते हुए भी स्लेजिंग करते थे।”

टीम में तीसरे स्थान के लिए आकाश चोपड़ा ने राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) और रिकी पोंटिंग (Ricky Ponting) से ज़्यादा तरजीह  चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) को दी। उनका मानना है कि द्रविड़ ने अपने दो मैच जिताऊ सेंचुरी के अलावा बहुत कुछ नहीं किया है और पोंटिंग का भारत में खेलने का रिकॉर्ड निराशाजनक रहा है। पुजारा सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज थे, जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में अपनी पहली टेस्ट सीरीज जीती थी। नंबर 4 स्पॉट के लिए आकाश चोपड़ा ने वीवीएस लक्ष्मण (VVS Laxman) और विराट कोहली (Virat Kohli) की जगह, सचिन तेंडुलकर (Sachin Tendulkar) को चुना।

विराट कोहली टीम से नदारद

आकाश चोपड़ा कहते हैं, टीम में नंबर 4 पर निस्संदेह सचिन तेंदुलकर रहेंगे। करियर में उनका औसत 55 है और उन्होंने टेस्ट मैचों में 11 सेंचुरी भी लगाए हैं। नंबर 5 पर मैंने वीवीएस लक्ष्मण (VVS Laxman) को जगह दी है। लक्ष्मण का औसत 49 का है। टेस्ट करियर में उनके नाम 6 शतक हैं। इस जगह विराट कोहली (Virat Kohli) का नाम भी हो सकता था, पर मैंने उनको शामिल नहीं किया। क्योंकि बीते दो-तीन सीरीज में उनकी बल्ले से उतने रन नहीं निकल पाए।” 

आकाश चोपड़ा की इस कॉमबाइंड टीम (India and Australia Combined Test Team) में धाकड़ बल्लेबाज केे तौर पर स्टीव स्मिथ (Steve Smith) को चुना गया। विकेटकीपर के लिए चोपड़ा ने एमएस धोनी की बजाय एडम गिलक्रिस्ट (Adam Gilchrist) को तरजीह दी।

बॉलिंग लाइन-अप में कौन कौन

India and Australia Combined Test Team की बोलिंग लाइन-अप (Bowling Line up) में आकाश चोपड़ा ने 2 स्पिनर और 3 तेज़ गेंदबाजों को चुना। टीम इंडिया के पूर्व घातक स्पिनर अनिल कुंबले (Anil Kumble) को शेन वार्न, हरभजन सिंह और आर. अश्विन की बजाय ज़्यादा तरजीह दी। उन्होंने शेन वॉर्न को भारत के खिलाफ संतोषजनक संख्या में विकेट नहीं चटकाने के कारण टीम में शामिल नहीं किया। टीम के दूसरे स्पिनर के तौर पर नाथन लियोन को चुना गया। तेज़ गेंदबाज़ी के लिए इस टीम में ग्लेन मैकग्राथ, ब्रेट ली और जहीर खान को जगह दी गई।

आकाश चोपड़ा की India and Australia Combined Test Team

वीरेंद्र सहवाग, मैथ्यू हेडन, चेतेश्वर पुजारा, सचिन तेंदुलकर, वीवीएस लक्ष्मण, स्टीव स्मिथ, एडम गिलक्रिस्ट (wk), अनिल कुंबले, नाथन लियोन, ग्लेन मैक्ग्रा, जहीर खान, ब्रेट ली।