रिद्धिमान साहा: 20 गेंदों में शतक जड़ने वाला वो खिलाड़ी, जिसे सोशल मीडिया पर मिला अपना प्यार

    नई दिल्ली: भारतीय विकेटकीपर रिद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha Birthday) का आज यानी 24 अक्टूबर (24 October) को जन्मदिन है। साहा दुनिया के बेहतरीन विकेटकीपर्स (Wicket Keeper Wriddhiman Saha) में से एक हैं। उनका खेल प्रदर्शन हमेशा से ही काफी अच्छा रहा है। उनका जन्म आज ही के दिन साल 1984 को पश्चिम बंगाल (West Bengal) के एक छोटे से गांव में हुआ था। वह बचपन से ही क्रिकेटर बनना चाहते थे। मानों उनका पहला प्यार ही क्रिकेट है। बचपन में वह अपनी पढ़ाई से ज्यादा ध्यान खेलने में लगाया करते थे। इसी वजह से वह ज़्यादा पढ़ नहीं पाए, लेकिन क्रिकेट जगत में अपने नाम रोशन करने में कामयाब रहे।

    2010 में किया इंटरनेशनल डेब्यू

    भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज रिद्धिमान साहा ने साल 2010 में भारतीय टीम में शामिल हुए थे। रिद्धिमान भी एक विकेटकीपर हैं, इसलिए जब तक टीम में महेंद्र सिंह धोनी रहे उनकी जगह पक्की नहीं हो पाई थी। फिर 2014 में जब धोनी ने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहा तब रिद्धिमान को टीम में आने का मौका मिला। वह बतौर विकेटकीपर टीम में शामिल हुए थे। टेस्ट टीम में शामिल होने के बाद उन्होंने कई कई बेहतरीन पारियां भी खेली हैं।

    20 गेंदों में जड़ा शतक 

    भले ही रिद्धिमान साहा इंटरनेशनल क्रिकेट में विस्फोटक बल्लेबाज नहीं माने जाते, लेकिन एक क्लब क्रिकेट में उन्होंने तूफानी पारी खेली थी, जो आज भी लोगों को बखूबी याद है। मार्च 2018 में साहा ने अपने क्लब मोहन बगान के लिए खेलते हुए जेसी मुखर्जी ट्रॉफी के एक मुकाबले में पीएनआर रिक्रिएशन क्लब के खिलाफ 20 गेंदों पर धमाकेदार 102 रन की पारी खेली थी। उनकी इस पारी में उन्होंने 4 चौके और 16 छक्के जड़े थे। टी20 क्रिकेट में 17 गेंदों पर शतक बनाने का आधिकारिक रिकॉर्ड भी रिद्धिमान साहा के नाम है। इससे पहले भी वर्ष 2014 के आईपीएल फाइनल में रिद्धिमान साहा ने 55 गेंदों पर नाबाद 115 रन की पारी खेली थी।   

    सोशल मीडिया पर मिला प्यार 

    बता दें कि, रिद्धिमान साहा शादीशुदा हैं और उनकी लव स्टोरी काफी दिलचस्प है। साहा की पत्नी देब्रती से पहली बार दोस्ती आर्कुट के जरिए हुई थी। फिर दोनों ने चार साल तक एक दूसरे को डेट किया। जिसके बाद उन्होंने 2011 में शादी कर ली। साहा ने अपनी शादी को काफी प्राइवेट रखा था और पार्टी में सिर्फ नजदीकी लोगों को ही इनवाइट किया था।