England Tour BCCI Indian Cricket team Announcement Virat kohli Chetan Sharma

    -विनय कुमार 

    भारत और इंग्लैंड के बीच 5 मैचों की टेस्ट सीरीज का दूसरा मुकाबला 12 अगस्त 2021 से लंदन के लॉर्ड्स पर होगा।  मैदान इस मैच में टीम इंडिया के धांसू कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli Captain Indian Cricket Team) और टॉप ऑर्डर के बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा से बड़ी पारियों की आशाएं हैं। चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) के लिए इस मैच में बड़ी पारी खेलना जरूरी भी इसलिए होगा, क्योंकि कई क्रिकेट-पंडितों ने उनके भारतीय टीम के ‘प्लेइंग इलेवन’ (Playing-XI Team India) में बने रहने पर सवाल खड़े दिए हैं।

    ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि, लॉर्ड्स के मैदान में (Lord’s Cricket ground London), जहां टीम इंडिया के धांसू कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli Captain Indian Cricket Team) बीते 21 महीनों से चले टेस्ट शतक (Test Century) का सूखा खत्म कर सकते हैं। वहीं, चेतेश्वर पुजारा भी इस मैदान में एक सेंचुरी पीटकर राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) और अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) जैसे क्रिकेटरों की खास सूची में  शामिल होना चाहेंगे। 

    गौरतलब है कि, क्रिकेट की दुनिया के ‘भीष्म पितामह’ लिटल मास्टर सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) और ‘मास्टर ब्लास्टर’ सचिन तेंडुलकर (Sachin Tendulkar) भी अपने समूचे टेस्ट करियर में लार्ड्स के मैदान में एक भी सेंचुरी नहीं ठोक पाए। ज़ाहिर है, कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) सुनील गावस्कर और सचिन तेंडुलकर के इस अनचाहे क्लब में शामिल होना नहीं चाहेंगे और शतक लगाकर एक नया कीर्तिमान रचना उनकी दि से ख्वाहिश होगी। बेशक, कप्तान कोहली इस मैदान पर एक सेंचुरी ठोक कर बड़े लंबे समय से शतक की प्यास को बुझाना चाहेंगे।

    क्रिकेट इतिहास बताता है कि, टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली पिछले 9 टेस्ट मैचों की 15 पारियों में सेंचुरी नहीं ठोक पाए।उन्होंने अपने अंतरराष्ट्रीय टेस्ट करियर में अब तक 27 शतक लगाए हैं। लेकिन नवंबर 2019 के बाद से अब तक उनके बल्ले से एक भी शतक नहीं निकला है। नवंबर 2019 के बाद से जो 15 टेस्ट पारियां उन्होंने खेली हैं, उनमें कुल मिलाकर उन्होंने 345 रन बनाए। जिसका औसत सिर्फ 23.00 का रहा।

    लॉर्ड्स के मैदान में कप्तान विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा के लिए शतक लगा पाना बहुत आसान भी नहीं होगा। क्योंकि, इतिहास गवाह है कि इस पिच पर भारतीय क्रिकेट टीम के कई दिग्गज बल्लेबाज लंबी पारी और तेज़ी से या ज्यादा रन बनाने के लिए जूझते रहे हैं। रिकॉर्ड्स बताते हैं कि, सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) ने अपने समूचे टेस्ट करियर में Lord’s Cricket Ground पर 10 पारियां खेली , जिसमें उन्होंने कुल 340 रन ही बनाए। उनमें उनके अर्धशतक ज़रूर शामिल थे। लेकिन, मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर (Sachin Tendulkar) ने अपने समूचे करियर में लॉर्ड्स के मैदान में खेले 9 टेस्ट पारियों में कभी भी अर्धशतक नहीं लगा सके। इस बात का मलाल तो उनके दिल में ज़रूर होगा भी। 

    ज़ाहिर है कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ऐसे किसी भी अनचाहे और अप्रिय रिकॉर्ड से कोसों दूर रहना चाहेंगे। कोहली की बात की जाए तो उन्होंने अपने करियर में अब तक लार्ड्स के मैदान में 4 पारियां खेली हैं। उसमें उन्होंने कुल मिलाकर 65 रन ही बनाए हैं। इस मैदान पर उनका सर्वाधिक  25 रनों की पारी रही है। इस ताज़ा सीरीज के पहले मैच में आपको ध्यान होगा ही कि कप्तान विराट कोहली नॉटिघम में खेले गए पहले टेस्ट मैच में अपनी पहली गेंद पर आउट हो कर ‘रॉयल डक’ (Royal Duck) का शिकार हुए थे। इसमें कोई दो राय नहीं कि, सीरीज के दूसरे मैच में वे लॉर्ड्स के मैदान में भारत को टेस्ट क्रिकेट के इतिहास ।इन तीसरी जीत दिलाने के लिए बड़ी और लंबी पारी खेलने को बेसब्र होंगे।

    टीम इंडिया के एक और सधे हुए और अनुभवी बल्लेबाज हैं, चेतेश्वर पुजारा। पुजारा ने अपने टेस्ट करियर में अब तक कुल 32 टेस्ट पारियां खेली हैं, लेकिन उनके बल्ले से एक भी सेंचुरी नहीं लगी है। खेले सभी पारियों में कुल मिलाकर उन्होंने 27.64 की औसत से 857 रन बनाए हैं। उन्होंने लार्ड्स के मैदान में अब तक 2 मैच खेले हैं। उन 2 मैचों की 4 पारियों में कुल मिला कर 89 रन ही बना सके। इस मैदान पर उनका बेस्ट स्कोर 43 रन रहा है।

    फिलहाल जो प्लेइंग इलेवन है, उसमें अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) के सिवाय कोई भी बल्लेबाज लार्ड्स के मैदान में किसी टेस्ट मैच में शतक ठोक नहीं सका।रहाणे ने आज से करीब 7 साल पहले 2014 में इस मैदान में खेले टेस्ट मैच की अपनी पहली पारी में 103 रन बनाए थे और उस टेस्ट मैच में भारत की 95 रनों से मिली जीत में महत्वपूर्ण रोल अदा किया था।

    टीम इंडिया में टॉप के 6 बल्लेबाजों में रोहित शर्मा (Rohit Sharma) और ऋषभ पंत (Rishabh Pant) लार्ड्स के मैदान में (Lord’s England) पहली बार टेस्ट मैच खेलेंगे। केएल राहुल (KL Rahul) 2018 में एक टेस्ट मैच खेल चुके हैं। उस मैच में केएल राहुल के बल्ले से कुल मिलाकर 18 रन निकले थे।

    टेस्ट क्रिकेट का इतिहास बताता है कि, भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व बल्लेबाज़ दिलीप वेंगसरकर (Dilip Vengsarkar) ने  लार्ड्स में लगातार 3 शतक ठोके थे, जो रिकॉर्ड और किसी भी भारतीय क्रिकेटर के नाम अभी तक दर्ज नहीं है। वेंगसरकर ने 1979 में 107, 1982 में 157 और 1986 में नाबाद 126 रन की शानदार और कालजयी पारियां खेली थीं।

    इस मैदान पर टीम इंडिया ने 1986 में उनकी 126 रनों की नाबाद बेहतरीन पारी की बदौलत टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में पहली बार लार्ड्स के मैदान में टेस्ट मैच जीता था। भारतीय क्रिकेट टीम ने अब तक इस मैदान में कुल 18 टेस्ट मैच खेले हैं, जिनमें से सिर्फ 2 मैचों में ही जीत हासिल हुई, जबकि 12 मैच इंग्लैंड ने जीते। और, 4 मैच ड्रॉ रहे।