भारत के अर्जुन और अरविंद नौकायन लाइटवेट डबल स्कल्स के सेमीफाइनल में पहुंचे

    टोक्यो. भारत के अर्जुन लाल जाट और अरविंद सिंह ने रविवार को यहां तोक्यो ओलंपिक में पुरूषों की नौकायन लाइटवेट डबल स्कल्स स्पर्धा के रेपेशाज दौर में तीसरे स्थान पर रहकर सेमीफाइनल में जगह बना ली। भारतीय जोड़ी ने 6 : 51 . 36 का समय निकाला। सेमीफाइनल्स 28 जुलाई को होंगे।

    इस जोड़ी ने कहा, ”हमने बिलकुल वही किया जो हमारे कोच ने हमें कहा था। कोच ने कहा था कि हमें भारत के लिये सर्वश्रेष्ठ स्थान हासिल करने की कोशिश करनी है।”  उन्होंने कहा,  “यह (नौकायन) खेल भारत में इतना लोकप्रिय नहीं है। इसलिये हमारे कोचों ने हमें कहा कि सेमीफाइनल्स तक पहुंचना भी हमारे लिये बड़ी प्रेरणा है और हमें अपना सर्वश्रेष्ठ करना था।” रेपेशाज दो में पोलैंड के जर्जी कोवालस्की और आर्टर मिकोलाजसेवस्की 6:43.44 के समय से शीर्ष पर रहे।

    उनके बाद स्पेन के काएटानो होर्टा पोम्बा और मानेल बालास्टेगुई ने 6:45.71 का समय लिया। अर्जुन बोअर की और अरविंद स्ट्रोकर की भूमिका में थे। दोनों शनिवार को अपनी हीट में पांचवें स्थान पर रहे थे। भारतीय नौकायन महासंघ के अध्यक्ष राजलक्ष्मी सिंह देव ने पीटीआई से कहा, “यह भारतीय नौकायन खिलाड़ियों का ओलंपिक में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। कोई भी भारतीय टीम सेमीफाइनल्स तक नहीं पहुंच सकी थी।”

    देव ने कहा, “अरविंद और अर्जुन अब 12 सेमीफाइनलिस्ट में शामिल हैं। पदक जीतना मुश्किल हो सकता है लेकिन वे सेमीफाइनल्स में हिस्सा लेंगे। सेमीफाइनल्स की दो रेस होंगी जिसमें छह छह बोट रेस करेंगी। प्रत्येक सेमीफाइनल्स से शीर्ष तीन टीमें फाइनल (छह टीमें) में पहुंचेंगी।”

    नौकायन लाइटवेट डबल स्कल्स वर्ग में दो खिलाड़ी एक नाव में होते हैं और दो दो चप्पू का इस्तेमाल करते हैं। हर पुरूष प्रतिभागी का अधिकतम वजन 72 . 5 किलो और औसत वजन 70 किलो होना चाहिये। महिला वर्ग में अधिकतम वजन 59 किलो और औसत 57 किलो होता है। (एजेंसी)