अनूप कुमार: भारतीय कबड्डी के पूर्व कप्तान जो थे बोनस लेने में माहिर,  जानें उनके बारें में

    नई दिल्ली: कबड्डी के ‘बोनस के बादशाह’ नाम से पहचान बनाने वाले भारतीय कबड्डी टीम के पूर्व कप्तान अनूप कुमार (Anup Kumar Birthday) आज अपना 38 वां जन्मदिन मना रहे हैं। उनका जन्म आज ही के दिन 20 नवंबर 1983 को हरयाणा में हुआ था। अनूप अपने शुरुआती स्कूल के दिनों से कबड्डी खेल रहे थे और खेल के लिए उनका जुनून कभी दूर नहीं हुआ।

    अनूप कुमार कबड्डी की दुनिया में सबसे अधिक सजाए गए खिलाड़ियों में से एक है और आधुनिक कबड्डी का पहले पोस्टर बॉय है। अनूप को उनके शांत स्वाभाव के लिए प्रशंसकों और साथी कबड्डी खिलाड़ियों में “कैप्टन कूल” के रूप में प्रसिद्ध हैं। अनूप कुमार मुख्य रूप से एक रेडर,कबड्डी के मैट पर बोनस अंक लेने की अपनी क्षमता के लिए जाना जाता था। इसी कौशल के वजह से उन्हें “बोनस का बादशाह” उपनाम भी मिला। 

    2006 के दक्षिण एशियाई खेलों के दौरान अनूप कुमार ने अपना करियर शुरू किया। वह कबड्डी उस टीम का हिस्सा थे जिन्होंने 2010 में 2014 और 2014 में चीन और कोरिया में एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीते थे। अनूप ने 2016 कबड्डी विश्व कप में भारतीय कबड्डी टीम का नेतृत्व किया, जहां उन्होंने भारत को चैंपियन बनाया। वहीं उनके नेतृत्व में भारत ने 2016 में गुवाहाटी में दक्षिण एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था।कबड्डी के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए अनूप कुमार को 2012 में भारत सरकार द्वारा अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

    अनूप कुमार ने प्रो कबड्डी लीग में 2014 से यू मुम्बा के तरफ से अपनी यात्रा शुरू की और उन्हें अपने 155 छापे अंकों के लिए टूर्नामेंट के सबसे मूल्यवान खिलाड़ी के रूप में चुना गया। उन्होंने टीम को फाइनल में पहुंचाया लेकिन जयपुर पिंक पैंथर्स से हार गए। वहीं दूसरे साल 2015 में अनूप कुमार ने प्रो कबड्डी यू मुंबा टीम को फाइनल में बेंगलुरु बुल्स पर जीत के साथ जीत दिलाई।

    पीकेएल के तीसरे सीजन में भी यू मुम्बा फाइनल में पहुंची, जिससे वे पीकेएल में लगातार तीन फाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बन गई। हालांकि, टीम को पटना पाइरेट्स के हाथों हार का सामना करना पड़ा। बता दें कि अनूप लगातार पांच सत्रों तक यू मुंबा के कप्तान थे और लंबे समय तक पीकेएल टीम का नेतृत्व करने वाले एकमात्र खिलाड़ी हैं। अनूप कुमार ने 2016 कबड्डी विश्व कप में एक शानदार जीत के बाद अंतरराष्ट्रीय कबड्डी से सन्यास ले लिया। वहीँ पीकेएल के एक-दो सीजन खेलने के बाद, अनूप ने कबड्डी लीग से भी सन्यास लिया। अनूप ने अपने 15 साल के लंबे करियर पर पर्दा पड़ा। बता दें कि अनूप कुमार वर्तमान में हरियाणा राज्य के पुलिस उपायुक्त हैं।