कोरोना के चलते आईपीएल 2020 में लगे यह नियम

2020 का आईपीएल ऐसे दौर में हुआ जब वैश्विक महामारी कोरोना (Global epidemic corona) जबरदस्त ज्वार पर थी. कोरोना (corona) के चलते आईपीएल (IPL) के टलने की संभावना थी, लेकिन लॉकडाउन (Lockdown) में घर बैठे लोगों के लिए क्रिकेट (Cricket) के रोमांचक मुकाबलों के जरिए लॉकडाउन (Lockdown) के समय को आसान बनाने के लिए आईपीएल 2020 (Ipl 2020) के मुकाबले पिछले सालों की अपेक्षा देर से शुरू करने का निर्णय लिया गया. परिणामस्वरूप आईपीएल 2020 (Ipl 2020) 19 सितंबर से 10 नवंबर तक चले. आमतौर पर यह मैच भारत में होते थे, लेकिन कोरोना के चलते आईपीएल इस बार दुबई (Dubai) में कड़े कोरोना नियमों के बीच खेला गया.

कोरोना संक्रमण (Corona infection) के कारण इस बार जहां आम आदमी के लिए संचार बंदी के नियम-कानूनों की बंदिशें रहीं, वहीं आईपीएल मैचों के लिए आईपीएल (IPL Governing Council) ने भी कुछ कोरोना नियम तय किए. कमेटी ने ऐसे नियम बनाए ताकि बॉल से या खेल के जरिए किसी अन्य खिलाड़ी को संक्रमण न फैले. कोरोना ग्रस्त होने पर खिलाड़ी के बदले दूसरे खिलाड़ी के विकल्प आदि व्यवस्था के नियम कोरोना के चलते तय किए गए. ऐसे ही कुछ नियम जो कोरोना संक्रमण के बचाव के लिए बनाए गए उनमें प्रमुख नियम कुछ इस तरह थे.

1. कोविड-19 टेस्ट की थी शर्त

covid-19 kills nine more in Jharkhand, 530 new cases

कोविड के चलते सभी खिलाड़ियों और टीम सहयोगी स्टाफ के लिए एक हफ्ते में 24 घंटे के भीतर दो कोविड-19 पीसीआर परीक्षण कराना जरूरी था.

2. समय सीमा बढ़ी

इस बार आईपीएल मैच खेलने के दिनों में बढ़ोतरी की गई और मैच 53 दिन तक चले. बता दें कि, पिछले दो बार के मैच 50 दिन ही चले थे.

3. आधे घंटे पहले शुरू हुए मैच

आईपीएल 2020 के मैच खेलने के समय में भी बदलाव किया गया और मैच शाम 7 बजे ही शुरू किए गए. एक ही दिन में दो मैचों की स्थिति में दिन का खेल 3.30 बजे शुरू हुए. इस बार आईपीएल में 10 दिन में दो दो मैच हुए.

4. खिलाड़ी बदलने का था विकल्प

इस बार कोरोना महामारी के चलते कभी भी किसी के कोरोना पॉजिटिव होने की आशंका बनी थी, इसलिए आईपीएल की कमेटी ने यहां भी खिलाड़ी के विकल्प के लिए नियम बनाए थे ताकि, आवश्यकता पड़ने पर वह टीम बल्लेबाज की जगह बल्लेबाज और गेंदबाज की जगह गेंदबाज दूसरे खिलाड़ी को जगह दे सकती थी.

5. हाथ नहीं मिला सकते थे कप्तान

कोरोना संक्रमण के कारण टॉस उड़ाने या जीतने के बाद दोनों कप्तान हाथ नहीं मिला सके, यह नियम भी स्पष्ट रूप से तय किए गए थे.

6. गेंद पर लार लगाना  रहा प्रतिबंधित

कोरोना संक्रमण क्योंकि सबसे ज्यादा खांसी, जुकाम यानी मुंह से फैलने के कारण गेंदबाजों के लिए गेंद पर लार लगाना प्रतिबंधित किया गया था. कई बार बॉलिंग करते वक्त गेंदबाज गेंद को लार या थूक लगाते हैं, इसलिए इस बार ऐसा करना एक दंडनीय अपराध के रूप में रखा गया था. ऐसा करने पर दो बार चेतावनी के बाद 5 रनों की कटौती का नियम बनाया गया था.

7. बस में सिर्फ 50 प्रतिशत स्टाफ

होटल से खेल स्टेडियम जाने के लिए बस में सिर्फ 50 प्रतिशत क्षमता का इस्तेमाल किया गया जिसमें स्टाफ, खिलाड़ी आदि होटल से स्टेडियम पहुंचे.