कोरोना संकट : महाराष्ट्र में कर्फ्यू, बेवजह कोई न निकले घर से बाहर – उद्धव ठाकरे

कोरोना वायरस का प्रसार रोकने के लिए राज्य में आज से कर्फ्यू लगाने का निर्णय लिया है।

मुंबई. सरकारी निर्देशों को नागरिको ने गंभीरता से नहीं लेने के कारण राज्य सरकार ने कोरोना वायरस का प्रसार रोकने के लिए राज्य में आज से कर्फ्यू लगाने का निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सोमवार को एक पत्रकर परिषद में यह घोषणा की।  

मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा, यह समय मस्ती मजाक करने का नहीं है। फिर भी लोग घर से बाहर निकल रहे है। राज्य में धारा-144 लागु करने के बाद भी आज सुबह से सड़क पर कई गाड़िया देखने मिली। इसलिए अब मजबूरन पुरे राज्य में संचार प्रतिबंध करना पड़ रहा हैं।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

इस समय ठाकरे ने महाराष्ट्र की जिला सिमा भी बंद की हैं। महाराष्ट्र में अभी तक कई जिले कोरोना से सुरक्षित है। एक जिले से दूसरे जिले में कोरोना वायरस का प्रसार न होने के लिए यह निर्णय लिया गया हैं। इसके अनुसार एक जिले से दूसरे जिले में यात्रा पर प्रतिबंध लगाया गया हैं। साथ ही राज्यों में होने वाली हवाई यातायात बंद करने को लेकर भी एक पत्र मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा हैं। 

क्या कहा मुख्यमंत्री ने

निजी वाहन आवश्यक कारणों के लिए ही शुरू रहेगी।

ऑटो रिक्शा में ड्राइवर के साथ एक यात्री और टैक्सी में दो यात्रियों को बैठने की अनुमति रहेगी।

आवश्यक वस्तुओं के साथ पशु चारा की दुकाने खुली रहेगी।

साथ ही कृषि माल की यातायात शुरू रहेगी।

सभी धार्मिक स्थल पूरी तरह से बंद रहेंगे।

जरूरत पड़ी तो आंगनवाड़ी सेविकाएं और होमगार्ड के जवानों को चिकित्सा प्रशिक्षण भी दिया जायेगा।

हम एक महत्वपूर्ण चरण में हैं। कोरोना के प्रकोप को अभी रोका नहीं गया, तो दुनिया में जैसे फैला है वैसा ही राज्य में फैलेगा।