Fadnavis strongly attacked, said - Thackeray government failed on every front in last 1 year

  • नेता विपक्ष फडणवीस का जोरदार हमला
  • बोले, सिर्फ विकास कार्यों को रोकने का काम किया

मुंबई: पिछले 1 साल में महाराष्ट्र में ठाकरे सरकार हर मोर्चे पर फेल रही है, लेकिन वह अपना गुणगान करने में लगी है. यह जोरदार हमला नेता विपक्ष देवेन्द्र फडणवीस ने किया है. उन्होंने एक प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि पिछले एक साल में सरकार ने सिर्फ विकास कार्यों को रोकने का काम किया है. उन्होंने कहा कि मेट्रो कार शेड को आरे कॉलोनी से शिफ्ट कर सरकार ने मेट्रो के काम को रोकने का प्रयास किया है. फडणवीस ने कहा कि जल शिवार योजना हो या फिर सरपंच का चुनाव. हमारे हर काम को सिर्फ रोका गया है.

कोरोना से निपटने में नाकाम

 फडणवीस ने कहा कि  कोरोना महामारी से लेकर किसानों को मदद करने में यह सरकार पूरी तरह से असफल साबित हुई है. उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी से देश में सबसे ज्यादा मौतें महाराष्ट्र में हुई है. इसके बावजूद सरकार का कहना है कि वे कोरोना को रोकने में सफल  रहे हैं. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में कोरोना से अभी तक 47 हजार लोगों की मौत हो चुकी है.फडणवीस ने कहा कि हमलोगों ने देखा कि कोरोना के कई मरीजों की मौत अस्पताल में बेड नहीं मिलने से हो गई. कई अस्पतालों में कोरोना मरीजों के शव के बगल में मरीजों का इलाज हुआ. कई लोगों की मौत की जानकारी परिजनों को नहीं मिली. बाथरूम में 1 सप्ताह  से ज्यादा समय तक शव पड़ा रहा, लेकिन किसी ने सुध नहीं मिली.    

किसानों को नहीं मिली मदद

फडणवीस ने कहा कि सरकार बनाने के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने किसानों के लिए  कर्जमाफी का ऐलान किया था. उन्होंने कहा कि मैंने पिछले दिनों राज्य के कई हिस्सों का दौरा किया. इस दौरान मैंने किसानों से पूछा कि क्या उन्हें सरकार से मदद मिली, लेकिन किसी ने इसकी पुष्टि नहीं की.

सरकार में समन्वय नहीं

फडणवीस ने कहा कि महाराष्ट्र विकास आघाड़ी सरकार में शामिल दलों में कोई समन्वय नहीं है. कैबिनेट मंत्री अशोक चव्हाण ने कहा कि बिजली बिल माफ़ करने के बारे में बयान देने से पहले ऊर्जा मंत्री नितिन राउत ने सरकार के अन्दर चर्चा नहीं की. राउत कहते हैं कि इस बारे में उपमुख्यमंत्री अजीत पवार से चर्चा करने के बाद यह घोषणा की गई.फडणवीस ने कहा कि इससे साफ़ है कि सरकार में शामिल मंत्रियों में कोई समन्वय नहीं है.

चुल्लू भर पानी में डूब कर मर जाना चाहिए

फडणवीस ने कहा कि हमलोगों ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन की मांग नहीं की है, लेकिन हमारा मानना है कि राज्य में संवैधानिक ब्रेकडाउन है. महाराष्ट्र में अघोषित आपातकाल की स्थिति है. सुप्रीम कोर्ट ने जिस तरह एक्ट्रेस कंगना रनौत व पत्रकार अरनब गोस्वामी के बारे में जो फैसला दिया है. उसके बाद सरकार को चुल्लू भर पानी में डूब कर मर जाना चाहिए. फडणवीस ने कहा कि हम कंगना व अर्नब की बातों का समर्थन नहीं करते हैं, लेकिन यह लोकतंत्र की हत्या है.