Shivraj Singh Chauhan mourns the death of migrant laborers in Maharashtra rail accident

भोपाल. मध्य प्रदेश में सियासी उठापठक जारी है। सरकार बनाने के लिए भाजपा और कांग्रेस अपनी कोशिशों में जुट गई है। राजनितिक जानकारों कि माने तो मध्य प्रदेश में भाजपा का पलड़ा भारी है। ऐसे में भाजपा की सरकार बनना तय माना जा रहा है। लेकिन पार्टी का ही एक विधायक भाजपा के नाक में दम कर रहा है।

कमल नाथ से बढ़ा रहा नजदीकियां 
एक तरफ कांग्रेस फ्लोर टेस्ट से बच रही है वहीं दूसरी तरफ भाजपा के विधायक नारायण त्रिपाठी ने पार्टी के नाक में दम कर दिया है। जब से मध्य प्रदेश में राजनितिक घमासान शुरू हुआ है तब से ही त्रिपाठी की मुख्यमंत्री कमलनाथ से नजदीकियां बढ़ती दिखाई दे रही है। त्रिपाठी ने पिछली सरकार में मेहेर को जिला घोषित करने के लिए काफी प्रयास किए, जिसे अब मुख्यमंत्री कमल नाथ ने एक झटके में जिला घोषित कर दिया है। 

कमलनाथ सरकार सुरक्षित
त्रिपाठी ने अपने ही पार्टी भाजपा पर निशाना साधा है। उन्होंने मध्य प्रदेश में कमलनाथ की सरकार पूरी तरह सुरक्षित होने का दावा किया है। साथ ही उन्होंने विधायकों के खरीद-फरोख्त को पूरी तरह लोकतांत्रिक बताया है।

भाजपा अपनी रणनीति से काम कर रही है। पार्टी ने अब तक नारायण त्रिपाठी की सदस्यता रद्द नहीं की है। लेकिन राज भवन में भाजपा ने अपने विधायकों की जो लिस्ट दी उसमे त्रिपाठी का नाम नहीं था। विधानसभा में भाजपा ने अपने सदस्यों की संख्या 106 बताई है। 

BJP MLA Narayan Tripathi

कौन है नारायण त्रिपाठी?
नारायण त्रिपाठी ने अपने राजनितिक करियर की शुरुआत समाजवादी पार्टी से की थी। वे पहली बार 2003 में समाजवादी पार्टी के विधायक बने। इसके बाद 2009 में उन्होंने कांग्रेस में प्रवेश किया था। जब 2014 में देश में मोदी लहर के चलते उन्होंने भाजपा में प्रवेश कर लिया था। 2018 के विधानसभा चुनाव में जब 15 साल बाद कांग्रेस सत्ता में आयी तो त्रिपाठी फिर से अपने दल को छोड़ने के लिए बेताब दिखाई दिए। 

मध्य प्रदेश में चर्चा है कि नारायण त्रिपाठी का नाम बहुचर्चित हनी ट्रैप में है। इसी कारण त्रिपाठी मुख्यमंत्री कमल नाथ से नजदीकियां बढ़ा रहे है।