Homestay owner used to capture private moments of people in secret camera, 2000 porn videos found in investigation
Representative Photo

    नई दिल्‍ली. दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) की क्राइम ब्रांच ने एक ‘सेक्‍सटॉर्शन रैकेट” (Sextortion Racket) का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने मुख्य आरोपी मोहम्‍मद बरकत अली (Mohd Barkat Ali) को गुड़गांव से गिरफ्तार किया है। आरोपी सोशल मीडिया पर लड़कियों की फर्जी IDs बनाकर और लोगों को झांसा देखकर फंसाता था। सेक्‍स चैट चलने के कुछ दिन के बाद अपने टारगेट को विडियो कॉल (Video Call) करने के लिए कहा जाता था। कॉल पर लड़की सारे कपड़े उतारकर दिखाती थी और उनसे भी कपड़ें उतारने के लिए कहती थी। जिसके बाद पूरी कॉल को रिकॉर्ड कर लिए जाता था जो ब्‍लैकमेल का जरिया होता था। बता दें कि, यह रैकेट गैंग क्षेत्र के अपराधी चला रहे थे। 

    सिर्फ 15 हजार रुपये मांगते थे, ‘ज्‍यादा’ नहीं

    पुलिस थाने में पिछले कुछ महीनों में सेक्‍सटॉर्शन की कई शिकायतें दर्ज कराई गई थीं। पुलिस को जाँच में पता चला कि, टारगेट से केवल 15,000 रुपये मांगे जाते थे ताकि बिना ज्‍यादा विरोध किए वे चुपचाप पैसा दे दे। एएसआई बृजलाल और कॉन्‍स्‍टेबल मिंटू को सूचना मिली थी कि रैकेट का मास्‍टरमाइंड 13 जून की शाम को गुड़गांव के कुकरोला गांव आने वाला है। पुलिस ने जाल बिछाकर बरकत अली को धरदबोचा। वह हाई स्‍कूल ड्रॉपआउट है और हरियाणा के पलवल का रहने वाला है।

    धंधे में काफी समय से एक्टिवेट है गैंग 

    रिपोर्ट के अनुसार, पहले यह गैंग वॉट्सऐप पर लोगों को कार और बाइक बेचता था। वे भारतीय सेना के कर्मचारी बनकर लोगों को जाल में फंसाते थे। सितंबर 2008 में बरकत अली और उसके साथ‍ियों ने कर्नाटक के मैसुरु में HDFC बैंक के एटीएम से 12.8 लाख रुपये कैश लूटा था। बाद में उसका गैंग फेसबुक, वॉट्सऐप, टेलिग्राम, टिंडर जैसी ऐप्‍स पर सेक्‍सटॉर्शन में लग गया।

    पकड़े गए आरोपी ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि, उसने अपने टारगेट की स्‍क्रीन किसी और ऐप से रिकॉर्ड की। फिर उसे धोखा देने के लिए वॉयस चेंजर्स का इस्‍तेमाल किया। वो यूट्यूबर्स बनकर धमकी देते कि उनके पास अश्‍लील विडियो है जिसे वह वायरल कर देंगे। गैंग ने पिछले कुछ महीनों में 200 से ज्‍यादा लोगों से ठगी की है।

    जॉइंट कमिश्‍नर बीके सिंह ने बताया कि, “वॉट्सऐप कॉल रिकॉर्ड करने के लिए गैँग स्‍क्रीन रिकॉर्डर का इस्‍तेमाल करता था। फिर धमकी दी जाती कि पैसा नहीं दोगे तो विडियो को सोशल मीडिया पर डाल देंगे।” उनहोंने आगे बताया कि, पुलिस रैकेट के अन्‍य सदस्‍यों की गिरफ्तारी के लिए मेवात क्षेत्र में धरपकड़ कर रही है।