Shivraj Singh Chouhan
File Pic

    नयी दिल्ली/भोपाल. एक बड़ी खबर के अनुसार मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के डिंडौरी (Dindori) जिले में सौभाग्य योजना में हुए बड़े घोटाले का खामियाजा आज भी यहाँ के रहने वाले ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। जी हाँ इस जिले में आज भी कई ऐसे गांव हैं जहां बिजली तो नहीं पहुंची है, लेकिन इसके उलट हर महीने बाकायदा बिजली का बिल जरूर यहाँ पहुंच रहा है। 

    इधर घरों में बिजली कनेक्शन के बिना बिजली बिल आने से यहाँ के भोले-भाले ग्रामीण हैरान और परेशान हैं और उन्होंने इसकी शिकायत बिजली विभाग के अधिकारियों से लेकर जिले के जिम्मेदार लोगों से की लेकिन अभी तक उनकी कोई भी सुनवाई नहीं कर रहा है।

    अंजान बनते हैं अधिकारी

    इस पूरी घटना में सबसे हैरान करने वाली बात यह है की बिना बिजली वाले दर्जनों ग्रामीणों के घरों पर पिछले एक साल से बिजली का बिल हर महीने पहुंच रहा है और इसके लिए जिम्मेदार बिजली विभाग के अधिकारी सबकुछ जानते हुए भी अंजान बने बैठे हैं और मामले पर अगल-बगल झांकते रहते हैं।

    दिया जलाकर गुजर-बसर करने को मजबूर 

    दरअसल गोपालपुर से लगे सरई टोला में आसपास न तो बिजली के खंभे लगे हुए हैं और न ही यहां किसी के यहाँ कोई मीटर लगा हुआ है। लेकिन बावजूद इसके बिजली विभाग पिछले एक साल से हर महीने इस गाँव के लोगों को बिजली का बिल भेज रहा है। इनमे से एक ‘जयसिंह’ के बिजली का बिल सितंबर 2021 महीने तक 2123 रुपये भी हो चुका है।

    इस पर उनकी बेटी दीपा ने बताया की वो तो बेचारे केरोसिन का लालटेन बनाकर किसी तरह अंधेरे में गुजर बसर कर रहे हैं। उस पर बिजली विभाग का तुर्रा ये कि, बिजली विभाग का कर्मचारी उपसरपंच के घर में उनका बिजली बिल छोड़कर चला जाता है जो बाद में उन्हें मिल जाता है। 

    बीते 1साल से आ रहे बिजली बिल 

    इसके साथ ही पास ही के खुर्री टोला में रहने वाले कोई झनक लाल ने बिजली विभाग पर बड़ी मनमानी करने का आरोप लगाया और बताया की उन्होंने इसकी शिकायत बिजली विभाग से लेकर जिले के जिम्मेदार अधिकारियों से भी की है, लेकिन आज और अब तक किसी भी ने उनकी कोई भी सुध नहीं ली।

    तो वहीं देवकरा गांव से लगे वनग्राम टिकरा टोला में बिजली के नाम पर बिजली विभाग के द्वारा बीते 3 साल पहले सिर्फ 3 खंभे गाड़कर उन्हें वैसे ही छोड़ दिए गए हैं। लेकिन यहां रहने वाले करीब 25 घरों में बीते एक साल से बिजली तो नहीं लेकिन बाकायदा बिजली बिल भेजा जा रहा है। फिलहाल इन उपरोक्त सभी मामलो में शिवराज सरकार ने कोई भी सुध नहीं ली है।