rupee
file pic

    नई दिल्ली/ग्वालियर. ग्वालियर (Gwalior) से आ रही एक बड़ी खबर के अनुसार मध्य प्रदेश पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (Madhya Pradesh-EOW) यानी EOW ने ग्वालियर में एक बड़ी कार्रवाई करते हुए एक प्राइमरी स्कूल के सहायक शिक्षक के घर छापा मारा हैं।  शिक्षक के चार ठिकानों पर हुई इस जबरदस्त कार्रवाई में उसके पास से उसकी आय से 1000 गुना अधिक संपत्ति का अकूत खजाना जब्त किया गया है।  दरअसल EOW ने बीते शनिवार को आय से अधिक संपत्ति के आरोप में सरकारी स्कूल के शिक्षक के निवास पर छापा मारा था, जो अब 20 कॉलेजों का मालिक निकला।  

    यह है है मामला

    घटना के अनुसार ग्वालियर का रहने वाला सहायक शिक्षक प्रशांत परमार के घर EOW की टीम ने ने बीते शनिवार को छापा मारा है।  तब सहायक शिक्षक के 4 ठिकानों पर एक साथ EOW ने कार्रवाई की है।  तब इस छापेमार कार्रवाई में शिक्षक के पास से हजार गुना अधिक की संपत्ति का खुलासा हुआ है।  दरअसल, EOW को एक गुप्त सूचना मिली थी कि, सत्यम टावर में रहने वाले शिक्षक ने आय से अधिक संपत्ति अर्जित कर रखी है।  जिसके बाद EOW की टीम को शिक्षक के घर पर दबिश देकर बड़ी संख्या में चेक बुक अकाउंट और प्रॉपर्टी के दस्तावेज जब्त किये हैं।  (gwalior primary teacher eow raid)

    20 कॉलेजों का मालिक निकला एक प्राइमरी स्कूल का टीचर  

    इस बाबत पुलिस के अनुसार, घाटीगांव में तैनात प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक प्रशांत परमार के घर और अन्य परिसरों में सघन छापेमारी की गई है।  EOW के अनुसार, ग्वालियर और अन्य जगहों पर छापेमारी के बाद प्रारंभिक जांच में यह तथ्य सामने आया है कि परमार के पास ग्वालियर-चंबल संभाग में डी। एड और बी। एड पाठ्यक्रम चलाने वाले 20 कॉलेज भी हैं।  फिलहाल इन कॉलेजों से संबंधित दस्तावेजों की अहम् जांच भी की जा रही है। 

    शिक्षक निकला साक्षात कुबेर 

    वहीं EOW के पुलिस उपाधीक्षक चतुर्वेदी की मानें तो , शिक्षक द्वारा अपने अब तक के सेवा काल में 25 से 30 लाख की सैलरी पाई है लेकिन असल में इनकी संपत्ति अभी तक से 1000 गुना अधिक मिली है।  इसके साथ ही इस कार्रवाई में यह तटी भी सामने आया है कि सहायक शिक्षक के पास 20 कॉलेज जिसमें एक नर्सिंग कॉलेज भी शामिल है।  इसके अलावा, एक मैरिज गार्डन और एक स्कूल भी उनके नाम है।  फिलहाल, अब तक शिक्षक के चार ठिकाने नूराबाद, सत्यम टॉवर, सत्यम कॉरपोरेट और कोटेश्वर स्थित दफ्तर में EOW की टीम ने कार्रवाई की है।