munjare

Loading

भोपाल: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में बालाघाट लोकसभा सीट पर राजनीतिक लड़ाई मुंजारे परिवार के घर तक पहुंच गई है, जहां कांग्रेस विधायक पत्नी को उनके बसपा उम्मीदवार पति ने 19 अप्रैल को मतदान के दिन तक अलग रहने को कहा है। बालाघाट की विधायक अनुभा मुंजारे ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि उनके पति कंकर मुंजारे ने विचारधाराओं में अंतर के कारण उन्हें अलग रहने के लिए कहा है, वहीं कंकर ने कहा कि अगर वे एक छत के नीचे रहेंगे, तो लोगों को लगेगा कि आपस में कुछ ‘‘मैच फिक्सिंग” है।

अनुभा ने कहा, ‘‘हम पिछले साल विधानसभा चुनाव के दौरान एक साथ रहे थे, जब मैं बालाघाट सीट से कांग्रेस की उम्मीदवार थी और वह जिले की परसवाड़ा सीट से गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के उम्मीदवार थे। मुझे समझ में नहीं आ रहा है कि वह क्यों चाहते हैं कि हम अब अलग रहें।” वर्ष 2023 के विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता गौरीशंकर बिसेन को हराने वालीं अनुभा ने कहा, ‘‘हमारी शादी को 33 साल हो गए हैं और हम अपने बेटे के साथ खुशी से रह रहे हैं। ऐसे कई परिवार हैं, जो अलग-अलग राजनीतिक विचारधाराओं के बावजूद एक साथ रहते हैं। ग्वालियर के सिंधिया घराने को देखें।”

अनुभा ने कहा कि वह बालाघाट लोकसभा सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार सम्राट सरस्वार को पूरा समर्थन देंगी, लेकिन उन्होंने कहा कि वह प्रचार के दौरान अपने पति के बारे में कुछ गलत नहीं बोलेंगी। अनुभा ने कहा कि बालाघाट में भाजपा को हर हाल में हराना होगा। कंकर ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘मैंने अपनी पत्नी से कहा है कि वह 19 अप्रैल तक अलग रहें या मैं घर छोड़ दूंगा। अलग-अलग विचारधारा वाले दो लोग एक घर में नहीं रह सकते। अगर हम ऐसा करेंगे, तो लोगों को लगेगा ‘मैच फिक्सिंग’ है।” बालाघाट लोकसभा सीट से बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के उम्मीदवार कंकर ने दावा किया कि कांग्रेस की मध्य प्रदेश इकाई के प्रमुख जीतू पटवारी ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि उन्हें (कंकर) हराया जाए।