Manoj Jarange
मनोज जरांगे (डिजाइन फोटो)

Loading

मुंबई: मराठा आरक्षण (Maratha Reservation) की लड़ाई लड़ने वाले मनोज जरांगे (Manoj Jarange Patil) ने एक बड़ा खुलासा किया है, जिसके बारे में जानकर महाराष्ट्र (Maharashtra) की जनता दंग है। दरअसल  मनोज जरांगे ने कहा है कि उन्हें संदेह है कि ‘मुझे मारने की कोशिश की गई है और मेरे शरीर पर गाड़ी चढ़ाने की कोशिश की गई है।” 

इस बारे में खुद मराठा नेता जरांगे ने दावा किया है कि यह घटना सालेर किले में हुई जब वह नासिक जिले के दौरे पर थे। उस वक्त हमारी जान को खतरा हो सकता है, लेकिन हम इससे डरने वाले नहीं हैं। ऐसी जरांगे ने कहा। जारांगे ने यह भी कहा है कि भुजबल होते तो इस घटना के बारे में बताते पर हम ऐसे नहीं करते। आइए जानते है जान को खतरा होने की बात को लेकर मनोज जरांगे ने क्या कहा है… 

अबकी बार सख्त होगा अनशन 

जानकारी के लिए आपको बता दें कि मराठा आरक्षण को लेकर पारित अध्यादेश को लागू करने की मांग को लेकर मनोज जरांगे आज से फिर भूख हड़ताल करेंगे। इसमें महत्वपूर्ण बात यह है कि ये अनशन अब सख्त होगा और मनोज जरांगे ने यह रुख अपनाया है कि वह इस दौरान न तो पानी लेंगे और न ही इलाज कराएंगे। 

Maratha reservation Dismiss policemen responsible Jalna lathi charge Manoj Jarange
मनोज जरांगे

जरांगे को मारने की कोशिश 

जारांगे ने कहा है कि वह मराठा समुदाय के लिए सरकार द्वारा जारी राजपत्रित अध्यादेश को कानून में बदलने के लिए अनशन पर हैं। इसी दौरान जरांगे ने बताया की उन पर कार चढ़ाकर उन्हें मारने की कोशिश की गई थी। जरांगे ने कहा कि मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के ओएसडी को सूचित किया गया है कि पुलिस ने ड्राइवर को भी हिरासत में लिया है। 

मनोज जरांगे पर हमला? 

इस बारे में बात करते हुए मनोज जरांगे ने कहा कि, ”भले ही हम डर रहे हैं, लेकिन बता नहीं रहे हैं। ऐसी घटनाएं हमारे साथ 7 बार घटीं, लेकिन हम इसके बारे में कहीं नहीं बताते।सालहेर किले के पास हमारी कार पर एक टेम्पो आया, लेकिन हमने सुरक्षा नहीं मांगी। साथ ही यह भी नहीं बताया गया है कि हमें लेकर साजिश की गई है। हम सालहेर किला गए। सभी कारों को नीचे लाया गया। लेकिन तभी अचानक ऊपर कहीं से एक पिकअप वहां आ गई।  उस वक्त मुझे इसका एहसास नहीं हुआ, लेकिन दर्शन करते समय मुझे संदेह हुआ क्योंकि पुलिस वाले चिल्ला रहे थे कि जल्दी करो।”

Manoj Jarange and Eknath Shinde
मनोज जरांगे-CM एकनाथ शिंदे

CM शिंदे से जांच की मांग 

आगे उन्होंने कहा की ”पुलिस वाले चिल्ला रहे थे कि जल्दी करोतो मुझे एहसास हुआ कि नीचे कुछ हुआ है। लेकिन पुलिस ने मुझे यह नहीं बताया कि असल में क्या हुआ था।लेकिन, एक पिकअप जैसी गाड़ी का ब्रेक टूट गया और वह जोर से नीचे आ गिरा। यदि तेज गति से आ रही यह कार हमारे सामने आ जाती तो हम तबाह हो जाते। परन्तु जब एक ने जोर से आवाज दी, तो लोग उछलकर एक ओर गिर पड़े। पुलिस ने जब कार चालक को पकड़ा तो उसने बताया कि उसे किसी ने पिकअप चलाने के लिए कहा गया था। जरांगे ने कहा कि मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के ओएसडी से इस बात की जांच करने का अनुरोध किया गया है कि यह सब सच है या झूठ इसका पता लगाया जाए।”