uday-samant

    वेंगुर्ला (महाराष्ट्र). महाराष्ट्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत ने सोमवार को कहा कि कॉलेजों में कक्षा में प्रत्यक्ष रूप से पठन-पाठन एक नवंबर से शुरू नहीं हो सकता है, जब शैक्षणिक वर्ष शुरू होने वाला है। सामंत ने पीटीआई-भाषा से कहा कि उस वक्त की स्थिति और जिलाधिकारियों जो संबंधित आपदा प्रबंधन समितियों के प्रमुख भी हैं, के साथ विचार विमर्श के आधार पर ही ऑनलाइन या प्रत्यक्ष कक्षा के बारे में फैसला किया जाएगा।

    मंत्री ने कहा, ‘‘मैंने कहा है कि शैक्षणिक वर्ष एक नवंबर से शुरू होगा। मैंने यह नहीं कहा है कि उसी दिन से प्रत्यक्ष कक्षाएं शुरू होंगी। अभी यह जोखिम उठाना (ऑफलाइन कक्षाएं शुरू करने का) एक बड़ी चुनौती है।”

    सामंत ने कहा, ‘‘हमें इस तथ्य पर विचार करना होगा कि सभी पात्र व्यक्तियों को कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक नहीं मिली है, जबकि केवल 17-18 प्रतिशत को दूसरी खुराक मिली है। यदि सभी छात्रों को दोनों खुराकें मिल जातीं, तो हम प्रत्यक्ष कक्षाएं शुरू करने के बारे में सोच सकते थे।”

    उन्होंने कहा, ‘‘यह उनकी (छात्रों की) गलती नहीं है कि उन्होंने (महामारी के कारण) प्रैक्टिकल नहीं किया। अगर कोई उद्योग ऐसे छात्रों को रोजगार देने से मना करता है तो प्राथमिकी दर्ज होगी।”

    सिंधुदुर्ग में आगामी चिपी हवाई अड्डे के बारे में सामंत ने बताया कि इसका उद्घाटन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे नौ नवंबर को करेंगे, इसका श्रेय पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु को दिया जाना चाहिए।

    उन्होंने कहा कि कोंकण क्षेत्र में काफी दबदबा रखने वाले नारायण राणे को नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार में शामिल करने से भले ही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ा हो, लेकिन इससे क्षेत्र में शिवसैनिकों का मनोबल नहीं गिरा है। (एजेंसी)