Balasaheb Thorat

    अहमदनगर. राजस्वमंत्री (Revenue Minister) बालासाहब थोराट  (Balasaheb Thorat) के मार्गदर्शन में संगमनेर तहसील पुरे राज्य में विकास का मॉडल साबित हुआ है। कोरोना महामारी (Corona Pandemic) का संकट होन के बावजूद तहसील में विकास कामोंकी गति कायम रखी है। राजस्वमंत्री थोराट  के पृष्ठपोषण से विविध रास्तों का डामरीकरण, मजबुतीकरण समेत विविध कामों के लिए 5 करोड़ रूपए की निधी मंजूर हुआ है। यह जानकारी थोराट चिनी कारखाना के संचालक इंद्रजित थोराट ने दी है।

    इस बारे में जानकारी देते हुए इंद्रजित थोराट ने कहा की, विगत 2 सालों से राज्य में लगातार कोरोना संकट की स्थिती बरकरार है। ऐसी कठिन स्थिती में किसी भी विकास कामों के लिए निधी उपलब्ध कराना बड़ी चुनौती है। लेकिन राजस्वमंत्री बालासाहब थोराट ने संगमनेर तहसील के विकास कामों को प्रधानता दी है। वर्ष 2020-21 के लिए तहसील के विविध रास्तों का डामरीकरण, मजबुतीकरण, शमशानभूमी, दशक्रिया घाट का निर्माण, सुशोभीकरण, ग्रामपंचायत कार्यालय आदि कामों के लिए 5 करोड़ रूपए का निधी मंजूर हुआ है।

    राजस्वमंत्री थोराट के नेतृत्व में तहसील की सहकारी संस्थाए कार्यक्षम और प्रभावी रूप से काम कर रही है। जिसके कारण तहसील की ग्रामीण अर्थव्यवस्था मजबूत हुई है। अब तहसील के विविध रास्तों के लिए 5 करोड का निधी उपलब्ध होने से नए रूप से निर्माण होने वाले रास्तों की सहायता से ग्रामीण क्षेत्र में नागरिकों को यातायात की अच्छी सुविधाए उपलब्ध हो रही है। इस कारण संबंधी गाँवों के नागरिकों ने राजस्वमंत्री बाासाहब थोराट के पृष्ठपोषण की सराहना की है।