Ajit Pawar
महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजित पवार (फाइल फोटो)

Loading

मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) के डिप्टी सीएम अजित पवार (Ajit Pawar) ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) और शिवसेना से  हाथ क्यों मिलाया। उन्होंने इसकी वजह को स्पष्ट किया। पवार ने रविवार को सोशल मीडिया प्लेट फॉर्म एक्स हैंडल पर पोस्ट शेयर कर वजह बताई है। उन्होंने कहा कि  मैंने एक विचारधारा और उद्देश्य के साथ बिना किसी समझौता किए विकास कार्यों को पूरा करने के इरादे से अपनी भूमिका निभाई है। 

बड़ों का अनादर करने का मेरा कोई इरादा नहीं

महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजित पवार ने कल रात अपने ‘एक्स’ हैंडल पर एक बयान जारी कर पाला बदलने और बीजेपी और शिवसेना से हाथ मिलाने के अपने कारणों को स्पष्ट किया। बयान में उन्होंने कहा मैंने एक विचारधारा और उद्देश्य के साथ बिना किसी समझौता किए विकास कार्यों को पूरा करने के इरादे से अपनी भूमिका निभाई है। मैंने पाया कि इस देश में पीएम मोदी और एचएम अमित शाह के नेतृत्व में विकास कार्य हो रहे हैं। महत्वपूर्ण। मुझे उनके तेज नेतृत्व और सही निर्णय लेने की प्रक्रिया जैसे गुण पसंद आए। मेरी और उनकी कार्यशैली बहुत समान है। बड़ों का अनादर करने का मेरा कोई इरादा नहीं है।

बता दें कि जुलाई 2023 में महाराष्ट्र में बड़ा पॉलिटिकल उलटफेर हुआ था । NCP के नेता अजित पवार ने  अपने चाचा शरद पवार से अलग हो गए थे। इसके बाद उन्होंने 2 जुलाई को शिवसेना के एकनाथ शिंदे की सरकार में डिप्टी CM पद की शपथ ली। शपथ के तुरंत बाद ट्विटर प्रोफाइल बदला और लिखा- डिप्टी सीएम ऑफ महाराष्ट्र। अजित पवार अपने साथ 8 विधायकों छगन भुजबल, धनंजय मुंडे, अनिल पाटिल, दिलीप वलसे पाटिल, धर्मराव अत्राम, संजय बनसोड़े, अदिति तटकरे और हसन मुश्रीफ को मंत्री पद की शपथ दिलाई थी।