All dams in Nashik are full, heavy loss of vegetables

    • शहर में अनेक सड़कों पर पानी भरा
    • लोगों को आवागमन में हो रही तकलीफ

    अकोला. वापसी की बारिश के कारण एक बार फिर जिले के सभी जल प्रकल्प लबालब भर गए हैं. और तो और कुछ जल प्रकल्पों के गेट खोले गए हैं. जहां से पानी छोड़ा जा रहा है. बुधवार की शाम से लेकर गुरूवार की शाम तक रुक रुक कर कभी तेज बारिश लगातार शुरू है. मौसम में काफी परिवर्तन हुआ है. लोगों को उमस और गर्मी से काफी राहत मिली है. अकोला शहर को जलापूर्ति करनेवाला महान गांव में स्थित काटेपूर्णा प्रकल्प के चार गेट 30 सेमी खोले गए हैं जहां से पानी छोड़ा जा रहा है. काटेपूर्णा बांध में 98.93 प्रश जलसंचय है.

    वान प्रकल्प में 95.12 प्रश जलसंचय है. मोर्ना प्रकल्प शत प्रतिशत भर गया है. निर्गुणा प्रकल्प भी शत प्रतिशत भर गया है. उमा प्रकल्प में 79.25 प्रश जलसंचय है. अभी भी यहां बारिश शुरू है. अकोला तहसील में 23.01 मि.मी. बारिश दर्ज की गयी है.

    इसी तरह अकोट में 0.8, तेल्हारा में 13.0, बालापुर में 9.7, पातुर में 1.8, बार्शीटाकली में 26.4, मुर्तिजापुर में 8.3 इस तरह कुल जिले में 12.8 मि.मी. बारिश दर्ज की गयी है. अभी भी सभी जल प्रकल्पों में पानी का संचय लगातार शुरू है. जिले की अनेक छोटी, बड़ी सभी नदियों का जलस्तर बढ़ रहा है. जिला प्रशासन द्वारा नदी नालों के किनारे रहनेवाले लोगों को सावधान रहने की चेतावनी दी गयी है. 

    बारिश से फसलों की हानि

    स्थानीय किसान दीपेश तिवारी ने बातचीत के दौरान बताया कि इस वापसी की बारिश के कारण खरीफ फसलों का नुकसान हो रहा है. उन्होंने बताया कि सोयाबीन, कपास तथा तुअर की फसल इस वापसी की लगातार बारिश के कारण प्रभावित हो रही हैं. यदि इसी तरह बारिश होती रही तो फसलों का उत्पादन घटने की संभावना से इन्कार नहीं किया जा सकता है. 

    शहर में आवागमन प्रभावित

    शहर के अनेक मुख्य मार्गों पर बारिश का पानी जमा हो जाने से, सड़कों से पानी की निकासी की व्यवस्था न होने से अनेक क्षेत्रों में आवागमन प्रभावित होने की जानकारी मिली है. पुराना शहर में स्थित डाबकी रोड पर अनेक स्थानों पर बारिश का पानी जमा हो जाने से वाहन चलाना मुश्किल हो रहा है. वैसे हर वर्ष इस मार्ग पर बारिश का पानी जमा हो जाता है. इसी तरह की स्थिति रतनलाल प्लाट रोड से जुड़े हुए कुछ छोटे रास्तों की भी है.

    इसी तरह गौरक्षण रोड पर भी कुछ स्थानों पर बारिश का पानी जमा है. विद्या नगर मुख्य मार्ग पर भी सड़क पर स्थित गड्ढों में बारिश का पानी जमा हो गया है. महाराजा अग्रसेन चौक पर कई दिन से चौराहे की दुरूस्ती का काम शुरू है. लेकिन अभी तक काम पूरा नहीं हुआ है. यहां भी बारिश के कारण काफी कीचड़ हो गया है. इसी प्रकार की स्थिति अलसी प्लाट में अशोक वाटिका चौराहे की है.

    यहां भी बारिश का पानी जमा हुआ देखा जा सकता है. दि अकोला अर्बन बैंक की प्रशासकीय इमारत जो की तोष्णीवाल लेआउट में स्थित है, उसके सामने भी बारिश का पानी जमा है. शहर के अनेक क्षेत्रों में इस तरह से बारिश के पानी के कारण जनजीवन प्रभावित हुआ है.