जिप स्थायी समिति की सभा, पानी की किल्लत के प्रारुप पर गुंजी

  • अधिकारियों पर साधा निशाना

अकोला. जिला परिषद की स्थायी समिति की ऑफलाइन सभा मंगलवार 22 दिसंबर को जिला परिषद के राजर्षी छत्रपति शाहू महाराज सभागृह में आयोजित की गई थी. सभा में पानी की किल्लत कृती प्रारुप इस विषय पर सभा गुंजी. अक्टूबर से दिसंबर 2020 तक पानी की किल्लत का कृती प्रारुप जिलाधिकारी ने मंजूर किया. इस पर जिला परिषद सदस्यों ने आपत्ति लेते हुए हमें विश्वास में नही लेने का बताकर जलापूर्ति विभाग पर कार्रवाई करने की मांग की.

निरंक दिखानेवाले पंचायत समिति के संबंधित अधिकारियों पर शोकाज भेजने के निर्देश जलापूर्ति कार्यकारी अभियंता को दिए. 21 गांवों में वॉटर प्युरीफाय प्लांट का सिर्फ शेड लगाया गया है. उसके लाखों के बिल निकालने का आरोप करते हुए संबंधितों पर कार्रवाई करने की मांग सदस्यों ने की. सभा में पिछली सभा का इतिवृत्त कायम रखा गया.

गट विकास अधिकारी पंचायत समिति अकोला, अकोट, बालापुर, मूर्तिजापुर, पातुर, तेल्हारा व बार्शीटाकली के अधिनस्थ पुराने वाहन नमूद कर नए वाहन खरीदी करने की अनुमति दी गई है. सभा में जिला परिषद की अध्यक्ष प्रतिभा भोजने, उपाध्यक्षा सावित्रीबाई राठोड, सभापति चंद्रशेखर पांडे गुरुजी, आकाश सिरसाट, मनीषा बोर्डे, पंजाबराव वडाल, मुख्य कार्यकारी अधिकारी सौरभ कटियार, अतिरिक्त कार्यकारी अधिकारी डा. सुभाष पवार, उप कार्यकारी अधिकारी सूरज गोहाड, राहुल शेलके, वंचित के गुटनेता ज्ञानेश्वर सुलताने, सुनील फाटकर, गजानन पुंडकर, गोपाल दातकर, डा. प्रशांत अढाऊ व सभी विभाग के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे.