Poisoning Case Akola

    बार्शीटाकली.  पिंजर थाना अंतर्गत आनेवाले सरकिन्ही में शनिवार को आंगनवाडी के बच्चों को पोषाहार के रूप में दी जाने वाली खिचड़ी खाने से विषबाधा हुई और 12 बच्चों व 4 महिलाओं का स्वास्थ्य बिगड़ गया था. जिससे उन्हें तुरंत महान स्थित स्वास्थ्य केंद्र दाखिल किया गया था. इस बीच बार्शीटाकली के तहसीलदार गजानन हामंद और अन्य अधिकारियों ने घटना की गंभीरता को देखते हुए महान स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को भेंट देकर बालकों के स्वास्थ्य की पूछताछ की है. साथ ही चिकित्सा अधिकारियों से जानकारी ली.

    खिचड़ी में दिखाई दी छिपकली

    बार्शीटाकली तहसील के ग्राम सारकिन्ही की आंगनवाड़ी में गांव के 30 बच्चे हैं. हर दिन की तरह शनिवार को भी 30 में से 15 बच्चे आंगनवाड़ी पहुंचे थे. उनके लिए पोषाहार के रूप में खिचड़ी पकाई गई. खिचड़ी पकाते समय उसमें एक छिपकली गिर गई और वह पूरी तरह से पक गई, यह न जानते हुए बच्चों को खिचड़ी खाने को दी गई.

    इस बीच लक्ष आम्बेकर (5) को डिब्बे में वह छिपकली दिखाई दी, जिसे देखते ही देखते गांव में खलबली मच गयी. बालकों में जहर के लक्षण दिखते ही गांव के वैभव हातोलकर, संतोष पागृत, उप सरपंच अनिल चव्हाण, धनंजय खंडारे ने पहल की और बच्चों को तुरंत हातोला स्थित स्वास्थ्य उपकेंद्र ले गए, लेकिन वहां ताला बंद पाए जाने के कारण बालकों को उपचार के लिए महान स्वास्थ्य केंद्र लाया गया था. जहां बालकों पर डा.आकाश इंगले ने उपचार किए. फिलहाल बालकों का स्वास्थ्य स्थित है. 

    दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग

    अब खिचड़ी से हुई विषबाधा के मामले की गहन जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग गामीणों की ओर से की जा रही हैं.