Murder
प्रतीकात्मक फोटो

Loading

अकोला. पिंजर पुलिस स्टेशन के अंतर्गत टिटवा निवासी पुलिस पाटिल पवन जाधव (46) ने 9 फरवरी को शिकायत दर्ज कराई थी कि, गांव में नागोराव गवांडे के आवास के कमरे में उनके छोटे बेटे संदीप गावंडे के हाथ-पैर बंधे नजर आ रहे हैं और वह मृत अवस्था में पड़ा हैं. इस शिकायत के आधार पर मामला दर्ज किया गया है.

एलसीबी पुलिस ने इस मामले को सुलझा लिया है और यह पता चला है कि यह ऑनर किलिंग का मामला है. इस युवक की हत्या किसने की, इसकी जानकारी न मिलने पर अज्ञात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू कर दी गयी. इसके बाद मुर्तिजापुर के एसडीपीओ मनोहर दाभाड़े, एलसीबी के पीआई शंकर शेलके, पुलिस उप-निरीक्षक गोपाल जाधव, पिंजर थाने के थानेदार राहुल वाघ, पुलिस उप निरीक्षक बंडू मेश्राम ने घटना स्थल को भेंट दी.

जब मृतक के पिता से पूछताछ की गई तो उन्होंने बताया कि 8 फरवरी को उनकी पत्नी की तबीयत अचानक बिगड़ने के कारण उनकी पत्नी, बड़ा बेटा, बहू और बेटी इलाज के लिए सरकारी अस्पताल अकोला जा रहे थे, जबकि मृतक घर पर ही था और उसके कहने पर घर का लोहे का गेट बाहर से बंद कर सुबह ही चले गए थे. रात भर अस्पताल में पड़े रहे. 9 फरवरी की सुबह जब वह घर आए तो उन्हें घर के एक कमरे में संदीप को मृत पाया, उसके हाथ-पैर बंधे हुए थे. बाद में मामले की जांच के दौरान पुलिस को मृतक संदीप गावंडे (24) के पिता और भाई पर शक हुआ और उन्होंने उनसे गहन पूछताछ की.

प्रेम प्रसंग है कारण

परिस्थितिजन्य साक्ष्यों और प्रत्यक्षदर्शियों के बयानों के आधार पर पता चला कि मृतक का गांव की ही एक लड़की से प्रेम प्रसंग चल रहा था. उस प्रेम प्रसंग के कारण समाज में बदनाम होने का डर था. लिहाजा मृतक के पिता नागोराव गावंडे (60) और उसका बड़ा भाई प्रदीप उर्फ सोनू गावंडे (32) ने आठ फरवरी को मृतक के घर पर उसके साथ मारपीट की और बिजली के तार व कपड़े के दुपट्टे से उसके हाथ-पैर बांध दिए और बिजली के तार से उसका गला घोंटकर उसे मार डाला.

पोस्टमार्टम होते ही मृतक की मौत गला घोंटने और सिर में गंभीर चोट लगने से होने की जानकारी चिकित्सा अधिकारी की राय में सामने आयी. जिससे पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर न्यायालय में प्रस्तुत किया जहां से उन्हें 12 फरवरी तक पुलिस हिरासत में भेजा गया है. यह कार्रवाई पुलिस अधीक्षक बच्चन सिंह, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभय डोंगरे के मार्गदर्शन में एसडीपीओ मनोहर दाभाडे, एलसीबी के पीआई शंकर शेलेके, थानेदार राहुल वाघ, पुलिस उप निरीक्षक गोपाल जाधव, पुलिस उप निरीक्षक बंडू मेश्राम, अंमलदार नामदेव मोरे, चंद्रशेखर गोरे, भगवान मात्रे, पंकज एकाडे, दशरथ बोरकर, रविंद्र खंडारे, महेंद्र मलिये, लिलाधर खंडारे, चालक प्रशांत कमलाकर आदि पुलिस कर्मियों ने की है.