गणेशोत्सव की तैयारी जोरों पर

    अकोला. शहर तथा जिले में गणेशोत्सव की तैयारी जोरों पर शुरू है. गणेशोत्सव के लिए बाजारों में दूकानें सज गई है. भगवान गणेश के आगमन के लिए पंडाल भी सज गए है. कोरोना महामारी व शहर तथा जिले में लगातार हो रही बारिश के बावजूद लोगों में उत्साह कायम है.

    लोगों में उत्साह कायम

    आगामी शुक्रवार 10 सितंबर से भगवान गणेश का आगमण होनेवाला है. जिससे बाजार सज गया है. अकोला में पिछले कुछ दिनों से लगातार बारिश शुरू है. लेकिन फिर भी शहर में कई क्षेत्रों में गणेशोत्सव पर भगवान गणेश की मूर्तियों की दूकानें सज गई है. गणेशोत्सव पर्व नजदीक आने से पंडाल लगाना भी शुरू किया गया है. लगातार बारिश व कोरोना महामारी होने से भी गणेशोत्सव का लोगों में उत्साह कायम है.

    महानगर के प्रत्येक चौराहों, बाजारों में गणेश मूर्तियां बिक्री के लिए उपलब्ध हुई है. हाथगाड़ियों पर भी गणेश मूर्तियां बेची जा रही है. मनपा प्रशासन द्वारा स्थानीय अकोला क्रिकेट क्लब के विशाल प्रांगण में गणेश मूर्ति बिक्री की अनुमति दिए जाने के बाद कई दूकानें लगाई जा रही है. गणेश आगमन नजदीक आने से पूजन सामग्री दूकानों में ग्राहकों की भीड़ धीरे धीरे बढ़ रही है. इसके अतिरिक्त प्रत्येक घरों में गणेशोत्सव मनाने के लिए कार्य शुरू किया गया है. 

    सज गए बाजार

    मनपा प्रशासन ने गणेश मंडलों को आवश्यक अनुमतियां देने के लिए एक खिड़की योजना कार्यान्वित की गई है. प्रशासन ने नागरिकों से अपने घरों में ही गणेशोत्सव मनाने का आहवान किया है. जिससे कोरोना संकट का भय व असर न हो. सोशल डिस्टेंसिंग नियमों का पालन करना आवश्यक है तथा चेहरे पर मास्क लगाना आवश्यक है.

    इस बार प्रतिवर्षा नुसार कोरोना संकट के कारण बड़े गणेशोत्सव का आयोजन कम होने के आसार दिखाई दे रहे है. गणेश मूर्तियां बनानेवाले कारीगरों के पास भी इस वर्ष बड़ी मूर्तियां बनाने के ऑर्डर काफी कम मिले है. छोटी मूर्तियों की बिक्री इस वर्ष बढ़ने की संभावना है. गणेशोत्सव में विविध बाजारों में चहल पहल बनी रहने की संभावना है. सभी बाजार सज गए है.

    पंडाल की तैयारी शुरू

    महानगर के साथ जिले की सातों तहसीलों में गणेशोत्सव का त्यौहार भक्तिभाव से मनाने के लिए भक्तगण उत्सुक दिखाई दे रहे है. इस त्यौहार में मोदक के साथ साथ विविध तरह की मिठाईयां भी बिक्री के लिए भी बनाई जा रही है. महानगर में संत तुकाराम चौक, कौलखेड, पुराना इनकम टैक्स चौक, जठारपेठ, जयहिंद चौक, तापडिया नगर, राऊतवाडी, दुर्गा चौक, डाबकी रोड, ग्राम उमरी, ग्राम मलकापुर, शिवनी, ग्राम शिवर, ग्राम शिलोडा, गुलजारपुरा सहित विविध भागों में तथा बाजारों में गणेश मूर्तियों की बिक्री के साथ अन्य सजावट व पूजन सामग्री की दूकानें व हाथगाड़ियों पर लगी है.

    इसी तरह महानगर में कई स्थानों पर गणेश पंडाल निर्मिति का कार्य शुरू किया गया है, जिसमें गौरक्षण रोड, डाबकी रोड, कलेक्टर ऑफिस रोड, गांधी रोड, तिलक रोड, अकोट रोड, मंगरुलपीर रोड, जठारपेठ रोड, रामदास पेठ परिसर, सिंधी कैम्प परिसर, सावतराम मिल चाल, दगड़ीपुल आदि में सरकारी आदेशा नुसार एक मोहल्ला एक गणपति के पंडाल लगाने का काम भक्तों द्वारा शुरू किया गया है.

    अकोला के सभी बाजारों में लगी दूकानें व हाथगाड़ियों पर गणेश मूर्तियां तथा पूजन सामग्री आदि की खरीदी करने के लिए नागरिकों द्वारा सरकारी नियमों के अनुसार सोशल डिस्टेंसिंग व चेहरे पर मास्क लगाकर नियमों का पालन किया जा रहा है. लगातार बारिश व कोरोना संकट के बावजूद बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक इस वर्ष गणेशोत्सव मनाने के लिए उत्साह कायम देखा जा रहा है. 

    आज हरतालिका 

    शहर तथा जिले में आज हरतालिका बड़े उत्साह से मनाई जाएगी. हरतालिका संकट के समय धैर्य रखना सिखाती है. हरतालिका पर बाजार सजा है. सुहागन महिलाओं और कुंवारी युवतियों के द्वारा बड़े ही श्रध्दा और भक्तिभाव से माता पार्वती और शिवजी का पूजन कर मनाया जानेवाला पर्व हरतालिका नाम से जाना जाता है. हरतालिका पर्व के लिए बाजारों में दूकानें पूजन सामग्री से सज गई है.