मृत लाभार्थी के अकाउंट के 62 लाख सरकारी तिजोरी में जमा, तहसीलदार चिवंड़े ने बनाया नया रिकार्ड़

अमरावती. शासन की अलग अलग योजना अतंर्गत राज्य में लाखों लोगों को फायदा मिलता है. इस योजना का गैरफायदा लेनेवाले भी कई लोग है साथ ही राजनीतिक लाभ भी उठाया जाता है. वर्षों से लाभार्थियों की संख्या बढ़ती जाने से उसके अनुसार निधि का प्रावधान किया जा रहा है. लेकिन मृत लोगों की जानकारी नहीं देने से उनके भी पैसे कम होने का नाम नहीं ले रहे.

जिससे शासन की तिजोरी में अतिरिक्त बोझ बढ़ता जा रहा है. लेकिन उपजिलाधिकारी पद पर नियुक्त हुए व नांदगांव खंडेश्वर तहसील के तहसीलदार पियुष चिवंड़े ने सरकारी योजना के मृत लाभार्थियों के अकाउंट पर जमा हुए 62 लाख रुपयों की निधि शासन की तिजोरीं में जमा होने की घटना राज्य में पहली बार हुई है. 

अमरावती पैर्टन होगा राज्य में लागू 

मृत लाभार्थियों के अकाउंट पर जमा हुआ अनुदान वापस लेने की मुहिम के लिए तहसीलदार चिवंडे ने संजय गांधी विभाग की बैठक लेते हुए इस दौरान मृत लाभार्थियों के खाते में जमा अनुदान की रकम वापस लेने का निर्णय लिया. पटवारियों को आदेश देकर गाव के लाभार्थियों की सूची सौंपी गई. प्रत्येक लाभार्थियों का घर घर सर्वेक्षण कर उसकी जानकारी अवगत कराई गई. मृत्यू दिनांक लिखने से उसके अनुसार ही शेष रकम की जानकारी जांचने की तैयारी शुरू कर दी. जो प्रक्रिया लगभग 1 माह और की जाएगी. 

डेढ़ करोड़ तक जमा होगी रकम 

इस मुहिम के माध्यम से शासन का राजस्व बचाया गया है वह दुबारा शासन की तिजोरी में डाला जाएगा. अभी तक एक माह यह मुहिम शुरू रखी जाएगी. जिससे एक से डेढ़ करोड़ रुपयों की निधि शासन की तिजोरी में जमा होने का प्राथमिक अनुमान है.-पियुष चिवंड़े, तहसीलदार