death

    वर्धा. यहाँ के श्रीक्षेत्र झुंज स्थित वर्धा नदी में बीते मंगलवार को नाव पलटने के एक हृदयविदारक घटना में 11 लोग डूब गए। वहीं इस घटना के बाद अब तक कुल 10 लाशें ही मिली हैं। अभी भी एक लाश की खोज युद्धस्तर पर की जा रही है। वहीं अब नाव पलटने के अंतिम क्षण का वीडियो भी सामने आया है।

    नाव का भी नहीं कोई अता-पता नहीं 

    गौरतलब है की इस बचाव दल में एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, जिला आपत्ति व्यवस्थापन का खोजी दस्ता ऐसे तीन दल झुंज में डूबे लोगों को खोज रहे है। मंगलवार को खुद मौके पर पहुंची कलेक्टर पवनीत कौर ने बचाव दल को खोज में कोई कसर बाकी नहीं रखने के अहम् आदेश दिए। बीते बुधवार को दूसरे दिन का रेस्क्यू आपरेशन की प्रात: 6बजे शुरुआत हुई।जो शाम तक सतत जारी रही। लेकिन इस दौरान एक भी शव नहीं मिला था। अब तक नाव भी नहीं मिल पाई है। इधर पुलिस, तहसीलदार, ग्रामसेवक, पटवारी। मछलीमार व मत्स्य विभाग के अधिकारी मदद कार्य में जुटे है। स्थानीय नागरिकों की मदद से वर्धा नदी में यह खोज चल रही है।   

    भयावह है मंजर

    इधर अब तक कुल 10 लाशें मिली हैं। डूबने के कारण और देरी से बरामद इन लाशों की अवस्था ठीक नहीं होने के चलते और उनके सड़े-गले होने के कारण फिलहाल इनका जगह ही पर पोस्टमार्टम किया गया है।

    पानी के तेज प्रवाह से हुई थी दिक्कतें 

    इधर बीते मंगलवार रात्रि से शुरू बारिश के कारण नदी का प्रवाह तेज हो गया था। वहीं मध्य प्रदेश से आने वाली नदी के कारण यहाँ प्रवाह अत्याधिक बढ़ गया है। नदी में तहसील की सभी  नदियों का पानी भी समाता है। जहाँ बीते बुधवार को देर शाम तक खोजबीन चली जो कि अंधेरा हो जाने से थमा। बचाव दल के सदस्यों की सारी व्यवस्था झुंज के एक आश्रम में की गई है। खुद उपजिलाधिकारी डा। नितिन व्यवहारे भी इस घटना की  पल-पल की जानकारी ले रहे है। 

    तीन जिलों के लिए है पर्यटन स्थल 

    गौरतलब है कि नागपुर, अमरावती व वर्धा की सीमा पर स्थित वरुड़ तहसील का झुंज एक पर्यटन क्षेत्र भी है। जिसके चलते यहाँ आस पास के तीनों जिलों से झुंज में पर्यटक आते है। लेकिन अब इस भयानक हादसे के चलते मंगलवार से झुंज में नागपुर व अमराती मार्ग बंद किया गया है। पुलिस ने बैरीकेट्स लगाकर पुलिस बंदोबस्त भी यहाँ बिठा दिया है।