Dharni Morcha

Loading

धारणी (सं). वेतन वृद्धि तथा राज्य सरकार के स्थायी कर्मचारी का दर्जा प्राप्त होने जैसी मांगो को लेकर धारणी तहसील की आंगनवाड़ियों तथा उनकी सहायिकाओं की काम बंद हड़ताल जारी है. लेकिन इन्ही तहसिल की सैकड़ों आंगनवाड़ियों ने आज धारणी के बालविकास प्रकल्प कार्यालय पर अपनी मांगों को लेकर जनाक्रोश मोर्चा निकाला. धारणी के बालविकास अधिकारी को अपनी मांगों का निवेदन सौंपा.

उल्लेखनीय है कि कुपोषण के ऊपर सबसे कारगर साबित होने वाली बच्चों की आंगनवाड़ी केंद्र बीते सप्ताह भर से आंगनवाड़ियों की हड़ताल के कारण बंद होने से मेलघाट में कुपोषण का तांडव मचने की संभावना जताई जा सकती है. इस हड़ताल के ऊपर जल्द ही कोई समझौता नहीं हुआ तो मेलघाट की परिस्थिति बिगड़ सकती है.

जनाक्रोश मोर्चा में माया सुरेंद्र बडवाईक अध्यक्ष रमा प्रभे उपाध्यक्ष, शांता पटेल, अस्मिता गायकवाड, संगीता म्हसके, नलीनी मुनेश्वर, उर्मिला शेतावे, अनिता इंगले, रत्ना वाकोडे, भारती नंदा भगत, रजनों गावस्कर, कुसुम नवधरे, इंदु कोगे, रूपा वर्मा समेत सैकड़ो आंगनवाड़ी व मदतनिस सामिल हुये.  विगत 4 दिसम्बर से  कम वेतन देने के खिलाफ  हड़ताल पर गए आंगनवाड़ियों से धारणी तहसिल के 233 आंगनवाड़ी केंद्र बंद पड़ गए हैं जिसमें 18 हजार बच्चे और करीब 3 हजार 500 गर्भवती माताएं आहार के बिना ही रह रही है. अगर इन आंगनवाड़ियों की हड़ताल यूं ही जारी रही तो मेलघाट की कुपोषण की समस्या गम्भीर हो सकती है.