देसी पिस्तौल की नोंक पर डकैती का प्रयास, महिला की सतर्कता से भागा आरोपी

परतवाडा: क्रिसमस की रात शहर के सिविल लाईन में रहने वाले एक कपडा व्यवसायी के मकान पर देसी पिस्तौल की नोंक पर डकैती का प्रयास किया गया. लेकिन एक महिला की समय सुचकता से बड़ा अनर्थ टल गया. यह घटना 25 दिसंबर की रात 10.30 बजे सिविल लाइन में रहने वाले अजय व प्रकाश चंदनानी के निवासस्थान पर हुई.

पिस्तौल लेकर घुसा आरोपी

परतवाडा थाना क्षेत्र के शहर मुख्य मार्ग पर सिविल लाईन में सुंदराबॉईज हायस्कुल के पीछे परिसर रहने वाले अमरदिप शोरुम के संचालक अजय व प्रकाश चंदनानी के मकान पर शुक्रवार की रात 10.30 बजे के करीब 40 वर्षीय युवक हाथ में देसी पिस्तुल लेकर भीतर प्रवेश किया. पैसे निकाला वर्ना ऐसा कहकर डरा धमकने लगा. इस समय अजय व प्रकाश शहर के एक विवाह समारोह में गए थे, जबकि घर में मंजु अजय चंदनानी, आरती प्रकाश चंदनानी व बेटी गुंजन व अवंतीका मौजुद थी.

देसी पिस्तुल हाथ में लेकर एक शख्स को आते देख आरती व बेटी गुंजन व अवंतीका ने खुद की सुरक्षित करने के लिए घर के रुम में बंद कर लिया, लेकिन किचन में उपस्थित मंजु चंदनानी को घर में आरोपी के बारे में जानकारी देरी से मिलने से आरोपी ने किचन से प्रवेश कर मंजु की कनपट्टी पर पिस्तुल रखकर पैसे मांगने लगा. 

पकड़े जाने के डर से भागा

मंजु ने बगैर किसी डर व घबराहट के कहा कि मेरे पास पैसे नहीं, भैय्या के ऊपरी रुम में है. आरोपी ने मंजु से प्रश्न पूछा कि भैय्या घर में है क्या,  मंजु ने कहा हां घर में है. ऐसा सुनते ही आरोपी मंजु को पिस्तौल लगाकर दरवाजे तक ले गया. जहां से आरोपी फरार हो गया. इस दौरान घर में सिर्फ 4 महिला थी, जबकि एक भी पुरूष नहीं था. सूचना पर उपविभागीय अधिकारी पि.जे.अबदागिरे, थानेदार प्रदीप चौगांवकर घटनास्थल पहुंचे. पप्पुसेठ चंदनानी ने इस बारे में पालकमंत्री एड.यशोमती ठाकुर व ग्रामीण पुलिस अधीक्षक डा. हरि बालाजी.एन को भी इस घटना की जानकारी दी.

सीसीटीवी फुटेज की जांच

शहर के मुख्य मार्ग पर डकैती के प्रयास करने वाले शख्स की तलाश के लिए सीसीटीवी फुटेज की छानबीन की जा रही है. सांसद नवनीत राणा ने भी घटनास्थल को भेंट देकर महिला की सर्तकता पर अभिनंदन किया है

शहर के व्यवसायिकों में दहशत

परतवाडा शहर व्यवसायिक दृष्टिकोन से हमेशा चर्चा में रहता है. इससे पहले एक हार्डवेअर व्यवसायिक को पिस्तुल दिखाकर लूटने की घटना हुई थी. इस तरह की वारदाते बढ़ने से व्यवसायिकों में दहशत व्याप्त हो गई है.