हिंसा के बाद सिटी में कर्फ्यू; आसू गैस के गोले दागे, रबर बुलेट छोड़ी, कई जगह लाठीचार्ज

    अमरावती. त्रिपुरा की घटना को लेकर शुक्रवार को मुस्लिम समुदाय द्वारा निकाले गए मोर्चे के दौरान हुई तोड़फोड़ और पथराव के अलावा दो दूकानों में लूटपाट की घटना के निषेध में शनिवार को भाजपा के आह्वान पर आहूत बंद हिंसक रहा. सुबह 10 बजे पथराव, तोड़फोड़ के बाद दंगाईयों ने दोपहर 12 बजे के बाद एक मारुति कार, आधा दर्जन मोटर साइकिलें, एक दूकान, हाथगाड़ियां व कुछ पानठेले आग के हवाले किए. जिससे बेकाबू होती जा रही स्थिति पर काबू पाने के लिए पुलिस ने उपद्रव मचाने वालों पर कई जगह लाठीचार्ज किया.

    जबरदस्त तनाव के बीच सुबह 11 बजे से अनिश्चित काल के लिए कर्फ्यू लगा दिया गया है. अगले आदेश तक सार्वजनिक स्थलों पर 4 से अधिक लोग इकठ्ठा होने पर कार्रवाई होगी. इस बीच राजकमल चौक पर दो मोपेड जला दी गई. नमूना में विशिष्ट समुदाय के लोग हाथों में तलवार लेकर पथराव करने वालों की दिशा में पत्थर बरसाते देखे गये. इस तरह आमने-सामने आए दंगाईयों को खदेड़ने के लिए पुलिस ने आसू गैस के गोले दागे. जाफ्ता गली चौक में एक-दूसरे पर पथराव कर रहे दंगाईयों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आसू गैस के बाद रबर बूलेट के 16 राउंड फायर हुए.

    पथराव, तोड़फोड़, आगजनी से दहशत

    इसके पूर्व सुबह 10 बजे शहर के प्रमुख व्यावसायिक क्षेत्रों में धमके आंदोलनकारियों ने दूकानों के ग्लो साइन बोर्ड फोड़ दिए. जमकर पथराव भी किया. राजकमल क्षेत्र में एक पान ठेला की तोड़फोड़ कर इसे पलटा दिया. इतवारा में एक धार्मिक स्थल पर कुछ शरारती तत्वों ने पथराव किया. इस घटना के बाद दोनों समुदाय के लोग आमने सामने आ गए. जिन्होंने एक दूसरे पर पथराव किया. भीड़ को कंट्रोल करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस रबर बुलेट चलाई. जिसमें तीन लोगों को मामूली चोटें आई है.

    इस बीच जाफ्ता गली में एक ऑटो में तलवार सहित अन्य शस्त्र लेकर बैठे लोगों को डिटेन किया गया. पुलिस कार्रवाई का विरोध करते हुए लोगों ने यहां भी पथराव किया जिससे एसआरपीएफ जवानों को हवा में फायरिंग करनी पड़ी. पथराव के दौरान 8 पुलिस कर्मचारी को मामूली चोटें आई.

    अनिश्चितकालीन समय के लिए कर्फ्यू

    जयपुर एयरपोर्ट से अमरावती के लिए रवाना हुई सीपी आरती सिंह ने कहा कि वह शनिवार शाम 6 बजे तब शहर पहुंचेगी शहर में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए अनिश्चितकालीन समय के लिए कर्फ्यू घोषित किया गया है. सोशल मीडिया पर ना फाइलें इसके लिए 3 दिन तक इंटरनेट सुविधा बंद की जा रही है पुलिस कानून व्यवस्था बनाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है प्रत्येक हिंसक घटना की इन कैमरा शूटिंग की गई है. जिसमें दोषियों को किसी हाल में नहीं छोड़ा जाएगा. दूकानों की तोड़फोड़ कर आगजनी करने वाले वदंगा मचाने वाले किसी को भी छोड़ा नहीं जाएगा उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी.

    प्रतिष्ठानों के बोर्ड को बनाया निशाना

    राजकमल चौक पर शहर बंद आंदोलन के दौरान कुछ शरारती तत्व भीड़ की शक्ल में जयस्तंभ चौक से जवाहर रोड की ओर निकले जिन्होंने विशेष समुदाय के नाम व बैनर वाले प्रतिष्ठानों को निशाना बनाकर पथराव किया जिनके बोर्ड तोड़ दिए. यहां पर डी डायमंड प्रतिष्ठान पर पथराव कर उसके बोर्ड तोड़ डाले जिसके बाद चित्रा चौक होकर होटल अब्दुल्लाह पर पथराव का प्रयास किया गया लेकिन पुलिस ने समय रहते भीड़ को वहां से खदेड़ दिया जिसके बाद यह लोग जवाहर रोड होते हुए टांगा पडाव पहुंचे.जिन्होंने फुटपाथ पर खड़ी हाथगाड़ियां पलटा कर पथराव किया. जैसे ही भीड़ नागपुरी गेट की ओर बढ़ने लगी तभी पुलिस सौम्य बल का प्रयोग कर भीड़ को तितर-बितर कर दिया.

    नमूना, राजकमल चौक, राजापेठ, बापट चौक में तोडफोड़

    हिंसा के दौरान नमूना गली एक में हाथ गाड़ियों की तोड़फोड़ कर उन्हें पलटा दिया गया इसी तरह राजकुमार चौक की ऑटो गली में चाई टपरी हाथ ठेला को भारी भीड़ ने तोड़ दिया यहां डा. मुस्तफा साबिर के अस्पताल पर पथराव किया गया